मेरठ में पहले घर में घुसा तेंदुआ,जाल तोड़कर प्‍लाट में छिपा, अभी तक नहीं आया काबू

 

Leopard In Meerut मेरठ में एक घर में तेंदुआ घुस गया है।

Leopard In Meerut मेरठ के पल्‍लवपुरम में एक घर में तेंदुए के घुसने से हड़कंप मच गया है। बड़ी संख्‍या में वन विभाग और पुलिस की टीम मौके पर पहुंच गई है। परिवार घर के भीतर ही कैद है। तेंदुए को पकड़ने की कोशिश की जा रही है।

मेरठ,  संवाददाता। Leopard In Meerut मेरठ के पल्लवपुरम में शुक्रवार की सुबह उस वक्‍त अफरातफरी मच गई, जब एक तेंदुआ घर में घुस आया। बाद में पल्लवपुरम फेज टू में इस घर के अंदर से जाल तोड़कर भागा तेंदुआ एक प्‍लाट में झाड़ियों में छिपा है। वन विभाग की टीम ने प्‍लाट के चारों ओर जाल लगा दिया है और ट्रेंकुलाइज करने की भी तैयारी की जा रही है। शुक्रवार सुबह पल्लवपुरम फेज टू निवासी आभा अपने घर की रसोई में बच्चों के लिए नाश्ता बना रहीं थीं। करीब 7:50 पर तेंदुआ उनके घर के आंगन में कूलर के नीचे दिखाई दिया। उन्‍होने शोर मचाया तो तमाम लोग घर के बाहर एकत्र हो गए। वहां पहुंची पुलिस ने वन विभाग की टीम को बुलाया। वन विभाग ने पूरे घर की घेराबंदी कर तेंदुए को पकड़ने के लिए जाल लगा दिया। दोपहर में तीन बजे तक भी तेंदुआ काबू में नहीं आया था। दिल्‍ली और नोएडा की टीम भी अभी यहां पर नहीं पहुंची हैं।

jagran

निकला और फिर झाड़ियों में घुस गया तेंदुआ

वन विभाग के कर्मचारियों ने झाड़ियों में जैसे ही डंडा मारा तो तेंदुआ झाड़ियों से निकला और बाहर की ओर भागने के लिए जाल में दो से तीन टक्कर मारी मगर वह बाहर नहीं निकल पाया। बाद में तेंदुआ वापस झाड़ियों में घुस गया। हाइड्रोलिक मशीन पर सवार वनकर्मी तेंदुए को ट्रेंकुलाइज नहीं कर पाए।

jagran

मेरठ में तेंदुआ अपडेट

पल्‍लवपुरम क्षेत्र में घुसा तेंदुआ दोपहर में डेढ़ बजे तक काबू में नहीं आया था। वह एक प्‍लाट के भीतर ही छिपकर बैठा है। इस बीच ट्रैंक्‍युलाइज टीम भी मौके पर पहंच गइ है। वहीं रैपिड रेल का काम कर रही आरआरटीएस की टीम भी मौके आ गई है। प्लाट को ऊपर से जाल से कवर करने की तैयारी की जा रही है। बाहर जाल लगाया जा रहा है। डिवाइडर रोड पर भीड़ जमा है। इस बीच यह भी सूचना है कि नोएडा और दिल्ली से टीम बुलाई जा रही है।

jagran

चारों ओर मची भगदड़

दस मिनट तक तेंदुआ जाल में फंसा और फिर जाल तोड़कर डिवाइडर रोड की तरफ सड़क पर आ गया। इससे भगदड़ मच गई। तेंदुआ अनीता चौधरी के प्लाट में घुस गया। वन विभाग व पुलिस ने प्‍लाट के चारों ओर जाल लगाना शुरू किया तो तेंदुआ वहां से निकलकर पास के प्लाट में जा घुसा। इस प्लाट में झाड़ियां और पेड़ है। करीब दो घंटे से तेंदुआ यहीं छिपा हुआ है। पुलिस और वन विभाग की टीम ने चारों तरफ जाल लगा दिया है और तेंदुए की हर हलचल पर नजर रखी जा रही है। ट्रेंकुलाइज करने के लिए भी टीम बुला ली गई है। वहां मौजूद भीड़ को हटाने के लिए कई बार पुलिस को लाठियां फटकारनी पड़ीं।

jagran

पूरी तरह से की गई घेराबंदी

वहीं चिकित्‍सक आरके सिंह को भी तेंदुए को बेहोश करने के लिए बुलाया गया है। झाड़ी में घुसे तेंदुए की हलचल का वन विभाग और चिकित्सा विभाग के अफसर इंतजार कर रहे हैं। अभी तक डिवाइडर रोड पर तेंदुए को देखने के लिए भारी भीड़ जमा है। पुलिसकर्मी और वन विभाग के कर्मचारियों ने प्लाट की घेराबंदी की हुई है। तेंदुए के झाड़ियों में बेहोश करने के लिए उसकी हलचल का इंतजार किया जा रहा है। पुलिसकर्मी डिवाइडर रोड पर लोगों की भीड़ को हटाने में लगे हुए हैं।

jagran

जाल में फंसने से रह गया तेंदुआ

इस बीच मकान से दीवार कूद कर जैसे ही तेंदुआ बाहर की तरफ भागा तभी जाल में फंस गया। और करीब 10 मिनट तक निकलने का प्रयास किया। इसी बीच एकाएक जाली की गांठ खुल गई और तेंदुआ बहुत तेजी से निकल कर भागा। जिसको देख आसपास खड़े पुलिसकर्मी व भीड़ भी सड़क पर गिर गई। बच्चे अपने घरों की छतों पर रोने लगे। उसके बाद तेंदुआ डिवाइडर रोड के पास एक बड़े प्लॉट में गया।

दस मिनट तक फंसा रहा जाल में

आभा शर्मा के मकान के बाहर वन विभाग की टीम ने यह जाली लगाई थी, जिससे कि तेंदुआ अगर भागे तो इसमें फंस जाएं। थोड़ी देर बाद ही तेंदुआ मकान की बालकनी की दीवार कूदकर बाहर जैसे निकला तो जाली में फंस गया था। उसके बाद करीब 10 मिनट तक जाली में फंसा रहा।

jagran

एकाएक जाली की गांठ खुल जाने से तेंदुआ निकल गया और दौड़ते हुए पास ही एक खाली प्लॉट की झाड़ियों में छिप गया। पुलिस ने फेस 2 की डिवाइडर रोड को दोनों तरफ से रोक दिया है। दोबारा से प्लॉट के चारों तरफ जाली लगा कर तेंदुए को पकड़ने का प्रयास किया जा रहा ह

ै।