दिल्ली कैपिटल्स है कमजोर और शायद ही प्लेआफ में जगह बना पाए, पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने दिया बयान

दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान रिषभ पंत (एपी फोटो)

IPL 2022 आकाश चोपड़ा को लगता है कि श्रीकर भरत रोवमैन पावेल और सरफराज खान जैसे खिलाड़ी दिल्ली के लिए अच्छा प्रदर्शन करें इसकी गारंटी नहीं है। कुलदीप यादव का भी पिछले कुछ सीजन से आइपीएल में अच्छा प्रदर्शन नहीं रहा है

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। इंडियन प्रीमियर लीग में पिछले कुछ साल में दिल्ली कैपिटल्स का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा था और ये टीम 2020 में उप-विजेता रही थी। 2021 में टीम ने प्लेआफ में जगह बनाई थी, लेकिन फाइनल में जगह बनाने से ये टीम चूक गई थी। अब सीजन 2022 में दिल्ली की टीम के काफी खिलाड़ी बदल चुके हैं और चार रिटेन किए गए खिलाड़ियों के अलावा पूरी की पूरी टीम लगभग नई नजर आ रही है। अब सीजन में दिल्ली की टीम के प्रदर्शन के बारे में पूर्व भारतीय क्रिकेटर आकाश चोपड़ा ने अपनी राय रखी और उनके मुताबिक रिषभ पंत की कप्तान वाली दिल्ली की टीम के लिए आइपीएल का 15वां सीजन खराब साबित हो सकता है। आकाश चोपड़ा ने साफ तौर पर कहा कि अगर रिषभ पंत की कप्तानी वाली दिल्ली की टीम इस सीजन में प्लेआफ तक नहीं पहुंच पाती है तो उन्हें आश्चर्य नहीं होगा। अपने यूट्यूब चैनल पर आकाश चोपड़ा ने बताया कि वो पंत की कप्तानी वाली दिल्ली की टीम को लेकर इतने चिंतित क्यों हैं। दिल्ली कैपिटल्स को अपना पहला मैच आइपीएल 2022 में मुंबई इंडियंस के खिलाफ 27 मार्च को खेलना है। आकाश चोपड़ा ने कहा कि मैं दिल्ली को लेकर थोड़ा चिंतित हूं और वो अपने पहले तीन लीग मैचों में से दो आसानी से हार सकते हैं। हालांकि ऐसी भी संभावना है कि वो पहले तीन में से तीन मैच भी हार सकते हैं, लेकिन आप ऐसा नहीं कह सकते। हो सकता है कोई एक खिलाड़ी दिल्ली को जीत दिला दे, लेकिन एक टीम के तौर पर यह आपको ज्यादा आत्मविश्वास नहीं देता है। 

आइपीएल में केकेआर का प्रतिनिधित्व कर चुके आकाश चोपड़ा ने रोवमैन पावेल को दिल्ली टीम के लिए मध्यक्रम में एक अज्ञात वस्तु करार दिया। आकाश को लगता है कि श्रीकर भरत, रोवमैन पावेल और सरफराज खान जैसे खिलाड़ी दिल्ली के लिए अच्छा प्रदर्शन करें इसकी गारंटी नहीं है। कुलदीप यादव का भी पिछले कुछ सीजन से आइपीएल में अच्छा प्रदर्शन नहीं रहा है तो वहीं खलील अहमद और चेतन सकारिया भी मैच विजेता खिलाड़ी नहीं हैं। उन्होंने कहा कि अगर ये टीम प्लेआफ में नहीं पहुंचती है तो मुझे आश्चर्य नहीं होगा, लेकिन अगर वो धीरे-धीरे शुरुआत करें तो पता नहीं वो कहां तक पहुंच पाएंगे।