अमृतसर में बीएसएफ हेडक्वार्टर में जवान ने चलाई ताबड़तोड़ गोलियां; चार साथियों की जान लेकर की सुसाइड

 

घायलों को अमृतसर के गुरु नानक देव अस्पताल में दाखिल करवाया गया है।

पंजाब स्थित बीएसएफ हेडक्वार्टर खासा में एक जवान ने अपने साथियों पर फायरिंग कर दी। फायरिंग में चार जवानों की मौत की सूचना है। वहीं आरोपित जवान ने खुद को भी गोली मारी। वह भी गंभीर रूप से जख्मी है।

संवाददाता, अमृतसर। BSF Headquarter Firing Amritsar: यहां सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के हेडक्वार्टर खासा से रविवार सुबह बुरी खबर आई है। बीएसएफ 144वीं बटालियन के एक कांस्टेबल ने अपने ही साथियों पर ताबड़तोड़ गोलियां चला दी। घटना में 4 जवानों की मौत हो गई, जबकि कुछ अन्य घायल हो गए। साथियों पर हमले के बाद जवान ने खुद को भी गोली मार ली। उसे गंभीर हालत में अस्पताल ले जाया गया, जहां कुछ देर बाद उसकी भी मौत हो गई। आरोप है कि जवान से ज्यादा ड्यूटी ली जा रही थी। उसकी पहचान महाराष्ट्र के रहने वाले सतेप्पा एसके के रूप में बताई जा रही है। घटना के बाद खासा में दहशत का माहौल है। बीएसएफ ने कोर्ट औफ इन्क्वायरी के आदेश दे दिए हैं।

ये हैं जान गंवाने वाले जवानों के नाम

  1. हेड कांस्टेबल विनोद निवासी बिहार
  2. हेड कांस्टेबल तोरास्कर डीएस निवासी महाराष्ट्र
  3. हेड कांस्टेबल रतन सिंह, निवासी जम्मू-कश्मीर
  4. हेड कांस्टेबल बलजिंदर सिंह, पानीपत हरियाणा

jagran

अमृतसर के खासा स्थित बीएसएफ की 144वीं बटालियन का मुख्यालय, जहां गोलीबारी की घटना हुई।

लगातार ड्यूटी से परेशान होने की बात सामने आ रही

पता चला है कि सतेप्पा से पिछले कुछ दिनों से लगातार ड्यूटी ली जा रही थी l इस बात से वह काफी परेशान हो गया था l शनिवार को उसकी बीएसएफ के एक बड़े अधिकारी से बहस भी हुई थी, लेकिन राहत कोई नहीं मिली l रविवार की सुबह सतेप्पा ड्यूटी पर तैनात था। गुस्से में आकर उसने अपनी राइफल से गोलियां चलानी शुरू कर दी l गोलियां चलने की आवाज सुनकर अन्य जवानों ने इधर-उधर भागना शुरू कर दिया l लगभग 9 लोगों को गोलियां लगीl कई जवान घायल बताए जा रहे हैं l दो जवानों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई और दो अन्य ने अस्पताल ले जाते हुए दम तोड़ा।

jagran

रोते हुए घटना के बारे में बताती हुई एक घायल जवान की मां। वीडियो ग्रैब।

घटना के बारे में पता चलते ही पुलिस और बीएसएफ के आला अधिकारी मौका ए वारदात पर पहुंच गए l घायलों को तुरंत एक निजी अस्पताल में दाखिल करवाया गया हैl पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए शवों को कब्जे में लेने की तैयारी शुरू कर दी है l मृतकों और घायलों के परिजनों को सूचित किया जा रहा है l

यह न झगड़ा था और न ही ड्यूटी का मामलाः आईजी

jagran

इसी बीच बीएसएफ के आइजी आसिफ जमाल ने कहा कि यह न आपसी झगड़ा था और न ही ड्यूटी का मामला। अभी पूरे मामले की तह तक जाना बाकी है। बीएसएफ व पंजाब पुलिस अपने अपने स्तर पर मामले की जांच कर रही है।