परिवारवाद पर कस गई नकेल, कई भाजपा नेताओं के बेटा-बेटियों की राजनीति में इंट्री पर लगी अड़चन
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की फाइल फोटो ।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पार्टी नेताओं के स्वजन को चुनावी राजनीति में नहीं उतारने के संदेश का असर छत्तीसगढ़ की राजनीति पर भी पड़ने वाला है। प्रदेश प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी के बस्तर प्रवास के दौरान हुए कार्यक्रम में इसकी झलक दिखी है।

रायपुर, राज्य ब्यूरो। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पार्टी नेताओं के स्वजन को चुनावी राजनीति में नहीं उतारने के संदेश का असर छत्तीसगढ़ की राजनीति पर भी पड़ने वाला है। प्रदेश प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी के बस्तर प्रवास के दौरान हुए कार्यक्रम में इसकी झलक दिखी है। पीएम के इस संदेश से प्रदेश में अपने दम पर राजनीति कर रहे नेता जहां खुश हैं, वहीं बेटा-बेटियों को राजनीति में लाने की तैयारी कर रहे नेताओं को झटका लगा है। प्रदेश के कई बड़े नेता अपनी सेहत और उम्र का हवाला देकर स्वजन को राजनीति में उतारना चाह रहे हैं। अब ऐसे नेता पुत्रों की राजनीति पर असमंजस के बादल छा गए हैं।

अपने दम पर राजनीति कर रहे नेताओं की बढ़ी उम्मीद

इधर, नेता पुत्रों की इंट्री पर रोक लगने की चर्चा से संघर्षशील कार्यकर्ताओं में उत्साह बढ़ गया है। परिवार की राजनीति से हटकर भाजपा से जुड़े नेताओं को यह उम्मीद है कि आगामी विधानसभा चुनाव में कई सक्रिय नेताओं को टिकट भी मिल सकती है। पार्टी अनुशासन का हवाला देते हुए कोई भी नेता इस मामले में आधिकारिक रूप से कुछ भी कहने से बच रहा है। 

बेटा-बेटियों को लेकर तैयारी कर रहे वरिष्ठ नेताओं का झटका

भाजपा की राजनीति में पूर्व मंत्री रामविचार नेताम, प्रेमप्रकाश पांडेय और गौरीशंकर अग्रवाल के साथ कुछ और नेता अपने बेटा-बेटियों को सक्रिय राजनीति में लाने की तैयारी में हैं। स्वजन के लिए टिकट की मांग करने की तैयारी कर रहे ज्यादातर नेताओं का कहना है कि भाजपा कार्यकर्ताओं की पार्टी है। हमारे स्वजन भी कार्यकर्ता के रूप में लंबे समय से पार्टी के लिए काम कर रहे हैं, इसलिए इसे वंशवाद से जोड़ना ठीक नहीं है। बाकी पार्टी का जो फैसला होगा, उसे स्वीकार किया जाएगा।

सीधे संवाद कर रही हैं प्रदेश प्रभारी

प्रदेश प्रभारी पुरंदेश्वरी दो बार बस्तर के प्रवास पर गई। इस दौरान उन्होंने उन नेताओं से सीधे संवाद किया, जो परिवारवाद की राजनीति से दूर हैं। उनके इस कदम को केंद्रीय संगठन के निर्देश के रूप में देखा जा रहा है। बस्तर में बलीराम कश्यप के बेटे केदार और दिनेश कश्यप दोनों विधानसभा और लोकसभा सदस्य चुने गए थे। इस चुनाव में उनके विकल्प की तलाश की जा रही है। दुर्ग में भाजपा के बागी नेता ताराचंद साहू के बेटे दीपक साहू को भाजपा ने पिछले चुनाव में टिकट दिया था, लेकिन वह हार गए। अब उनके स्थान पर भी नए चेहरे की तलाश की जा रही है।

पूर्व मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह के बेटे अभिषेक सिंह लोकसभा सदस्य चुने गए थे, लेकिन पार्टी ने पिछले चुनाव में उनका टिकट काट दिया। वर्तमान में वह विधानसभा चुनाव की तैयारी में हैं। सूत्रों की मानें तो केंद्रीय संगठन ने परिवार के एक सदस्य को सक्रिय राजनीति में उतारने का संकेत दिया है।

सीधे संवाद कर रही हैं प्रदेश प्रभारी

प्रदेश प्रभारी पुरंदेश्वरी दो बार बस्तर के प्रवास पर गई। इस दौरान उन्होंने उन नेताओं से सीधे संवाद किया, जो परिवारवाद की राजनीति से दूर हैं। उनके इस कदम को केंद्रीय संगठन के निर्देश के रूप में देखा जा रहा है। बस्तर में बलीराम कश्यप के बेटे केदार और दिनेश कश्यप दोनों विधानसभा और लोकसभा सदस्य चुने गए थे। इस चुनाव में उनके विकल्प की तलाश की जा रही है। दुर्ग में भाजपा के बागी नेता ताराचंद साहू के बेटे दीपक साहू को भाजपा ने पिछले चुनाव में टिकट दिया था, लेकिन वह हार गए। अब उनके स्थान पर भी नए चेहरे की तलाश की जा रही है।

पूर्व मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह के बेटे अभिषेक सिंह लोकसभा सदस्य चुने गए थे, लेकिन पार्टी ने पिछले चुनाव में उनका टिकट काट दिया। वर्तमान में वह विधानसभा चुनाव की तैयारी में हैं। सूत्रों की मानें तो केंद्रीय संगठन ने परिवार के एक सदस्य को सक्रिय राजनीति में उतारने का संकेत दिया है।