पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए जोड़ तोड़ शुरू, नवजोत सिंह सिद्धू करने लगे शक्ति प्रदर्शन

 

पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू की फाइल फोटो।

पंजाब में करारी हार के बाद कांग्रेस के प्रदेश प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू इस्तीफा दे चुके हैं। पार्टी अगला प्रधान तलाशने में जुटी है। वहीं नवजोत सिंह सिद्धू एक बार फिर प्रदेश की कमान लेने के लिए शक्ति प्रदर्शन में जुटे हुए हैं।

 संवाददाता, लुधियाना। पंजाब विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद पार्टी हाईकमान ने प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू से इस्तीफा मांग लिया था। सिद्धू अब पद से इस्तीफा दे चुके हैं, लेकिन एक बार फिर पार्टी की कमान लेने के लिए उन्होंने जोड़तोड़ शुरू कर दिया है। 

नवजोत सिंह सिद्धू आज अपने समर्थकों के साथ लुधियाना में पूर्व विधायक राकेश पांडे के घर पर बैठक कर रहे हैं। इस बैठक में 16 पूर्व व वर्तमान विधायक सहित 30 नेता पहुंचे। इस मीटिंग में नवजोत सिंह सिद्धू कांग्रेसी लीडरशिप में अपना आधार तलाशने की कोशिश कर रहे हैं। बैठक में सुखपाल सिंह खैहरा भी शामिल हुए।

सुखपाल सिंह खैहरा ने कहा कि संगठन मजबूत करने के लिए मीटिंग थी। उन्होंने कांग्रेस में गुटबाजी से इन्कार किया। कहा कि अलग-अलग बैठक नहीं हो रही है। जहां भी बैठक हो रही है वहां सिर्फ कांग्रेस को मजबूत करने के लिए विचार-विमर्श हो रहा है।

उन्होंने कहा कि चंडीगढ़ के मुलाजिमों को केंद्र के अधीन लेने का फैसला गलत है और कांग्रेस की पुरजोर निंदा करती है। उन्होंने कहा कि यह सोची समझी साजिश के तहत किया गया। उधर, पूर्व विधायक राकेश पांडे ने कहा कि लुधियाना और आसपास के शीर्ष नेताओं की मीटिंग बुलाई गई थी।

बता दें, सुखपाल सिंह पहले कांग्रेस में थे, लेकिन पिछले विधानसभा चुनाव से पूर्व वह आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए। कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार में वह नेता प्रतिपक्ष भी रहे, लेकिन ड्रग मामले में घिरने के कारण आम आदमी पार्टी ने सुखपाल सिंह खैहरा को नेता प्रतिपक्ष पद से हटा दिया।

नेता प्रतिपक्ष के पद से हटने के बाद सुखपाल सिंह खैहरा ने आम आदमी पार्टी के खिलाफ बगावत कर दी। पंजाब विधानसभा चुनाव से कुछ समय पूर्व सुखपाल सिंह खैहरा कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस में शामिल हो गए, लेकिन कुछ ही दिन बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह सीएम पद से हट गए और बाद में उन्होंने कांग्रेस छोड़ दी।

सुखपाल सिंह खैहरा ने पंजाब विधानसभा चुनाव भुलत्थ विधानसभा सीट से लड़ा और जीत दर्ज की। इन दिनों सुखपाल सिंह खैहरा नवजोत सिंह सिद्धू के साथ दोस्ती बढ़ा रहे हैं। कुछ दिन पूर्व भी सिद्धू समर्थक नेता कपूरथला में जुटे थे। इस बैठक में भी सुखपाल सिंह खैहरा शामिल हुए थे।

पंजाब विधानसभा चुनाव में करारी हार के बाद नवजोत सिंह सिद्धू कुछ दिन दिन अलग-थलग पड़े रहे, लेकिन गत सप्ताह से सिद्धू एक बार फिर सक्रिय नजर आ रहे हैं। सिद्धू की कोशिश है कि हाईकमान फिर से उन्हें प्रदेश की कमान सौंपे। वह इसी को लेकर शक्ति प्रदर्शन में जुटे ह

ैं।