चार अप्रैल से सुप्रीम कोर्ट में शुरू होगी फिजिकल सुनवाई

 

4 अप्रैल से सुप्रीम कोर्ट में होगी फिजिकल सुनवाई

कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी के मद्देनजर देश में पहले की तरह गतिविधियां सामान्य हो रहीं हैं। इस क्रम में सुप्रीम कोर्ट ने भी चार अप्रैल से फिजिकल सुनवाई का फैसला लिया है। एडवोकेट के विशेष आग्रह पर सप्ताह में दो दिन वर्चुअल सुनवाई का अधिकार दिया जाएगा

 नई दिल्ली । कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी के साथ ही देश भर में जनजीवन सामान्य होने लगा है। इस क्रम में अब सुप्रीम कोर्ट को भी खोलने का फैसला ले लिया गया है। सोमवार, 4 अप्रैल से कोर्ट में फिजिकल सुनवाई की जाएगी।  चीफ जस्टिस एनवी रमना (NV Ramana) ने बुधवार को बताया कि वकीलों के विशेष आग्रह पर सोमवार और शुक्रवार को उन्हें वीडियो कांफ्रेंसिंग के लिंक उपलब्ध करवाए जा सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष विकास सिंह ने चीफ जस्टिस के इस फैसले का स्वागत किया है।

कोरोना महामारी के कारण अब तक सुप्रीम कोर्ट में वर्चुअल और हाइब्रिड सुनवाई होती रही अब आगामी सोमवार से फिजिकल सुनवाई शुरू होने जा रही है। 2021 के अक्टूबर में सुप्रीम कोर्ट ने आंशिक रूप से फिजिकल सुनवाई की शुरुआत की थी। सात अक्टूबर, 2021 को कोर्ट द्वारा जारी किए गए एसओपी के अनुसार, बुधवार और गुरुवार को फिजिकल सुनवाई और सोमवार और शुक्रवार को सुनवाई वर्चुअल मोड में करने का फैसला लिया गया था।

कोरोना वायरस के वैरिएंट ओमिक्रोन के कारण कोविड मामलों में वृद्धि को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सात जनवरी, 2022 से पूरी तरह से वर्चुअल सुनवाई शुरू कर दी थी। इसके बाद कई जजों व कर्मचारियों के कोरोना संक्रमित संक्रमित होने के साथ न्यायाधीशों ने आवासीय से मामलों की सुनवाई शुरू कर दी थी। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने सात फरवरी को 14 फरवरी से सप्ताह में दो दिन केवल फिजिकल सुनवाई करने का फैसला किया था।