खालिस्तान समर्थक आतंकियों के इशारे पर रची गई थी देश को अस्थिर करने की साजिश, पाक से जुड़ा कनेक्शन

 

Haryana News: खालिस्तान समर्थक आतंकियों के इशारे पर रची गई थी देश को अस्थिर करने की साजिश

Haryana News विदेशों में बैठे आतंकवादियों के इशारे पर एक हत्या पंजाब के मोरिंडा थानाक्षेत्र के ऊधमपुर कलां गांव में सरपंच अवतार सिंह की कराई गई। इस हत्या में उग्रवादी अपने विदेशी आका आतंकियों की कसौटी पर खरे उतरे।

नई दिल्ली/सोनीपत। विदेशों में बैठे खालिस्तान समर्थक आतंकियों के इशारे पर देश को अस्थिर करने वाले उग्रवादियों से पुलिस को महत्वपूर्ण जानकारी मिली है। पंजाब में सरपंच की हत्या दो करोड़ रुपये से ज्यादा के अवैध हथियार और मैगजीन लेकर की गई थी। आतंकियों की ओर से इनको रुपये की कमी नहीं होने देने का भरोसा दिया गया था। टारगेट किलिंग के लिए इनको मनचाही धनराशि प्रदान करने का आश्वासन दिया गया था। पुलिस टीम दो उग्रवादियों को लेकर पंजाब में छापामारी कर रही है। जबकि इनके तीन साथियों को जेल भेजा जा चुका है।

पुलिस जांच में सामने आया है कि पाकिस्तान में बैठा आतंकी लखवीर सिंह रोड, कनाडा में बैठा हरदीप सिंह निज्जर और आस्ट्रेलिया में बैठे गुरुजंट सिंह जंटा और अर्शदीप सिंह देश को अस्थिर करना चाहते थे।वह देश में प्रमुख लोगों को टारगेट करके उनकी हत्या कराना चाहते थे। हत्या ऐसे लोगों की कराई जानी थीं, जिससे समाज में हड़कंप मचे और दंगों जैसे हालात उत्पन्न हो जाएं। मामला सांप्रदायिक और जातिगत विद्वेष का हो सके और देश में अस्थिरता आए। इसके लिए प्रमुख लोगों के नाम और फोटो सोनीपत के उग्रवादियों को दिए गए थे।

गौरतलब है कि सोनीपत से गिरफ्तार खालिस्तान समर्थित उग्रवादियों के एक अन्य साथी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार आरोपित मोहाना थानाक्षेत्र के गांव जुआं का रहने वाला तरुण उर्फ तरुणजीत है। वह गांव में ही अटल सेवा केंद्र चलाता है। आरोप है कि तरुण ने मुख्य आरोपित सागर को दोस्ती में उसका फर्जी आधार कार्ड व ड्राइ¨वग लाइसेंस तैयार करके दिया था, जिसमें अलग-अलग नाम के साथ चंडीगढ़ व फतेहाबाद का पता दिया गया था। खुफिया एजेंसी व पंजाब पुलिस से मिले इनपुट के आधार पर सोनीपत सीआइए-1 की टीम ने 19 फरवरी को खालिस्तान समर्थित चार उग्रवादियों को गिरफ्तार किया था। उनकी पहचान गांव जुआं के सागर उर्फ बिन्नी, सुनील उर्फ पहलवान, जतिन और गांव राजपुर के सुरेंद्र उर्फ सोनू के रूप में हुई थी। इनके पास से एके-47, पांच विदेशी व एक देशी पिस्टल मिली थीं। इस मामले में सागर व सुनील अभी भी पुलिस रिमांड पर हैं, जबकि उनके साथी जतिन व सुरेंद्र को पुलिस जेल भेज चुकी है। सीआइए की टीम ने इस मामले में सोमवार रात को सागर के साथी गांव जुआं के तरुण उर्फ तरुणजीत को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपित तरुण को मंगलवार दोपहर बाद अदालत में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया।