एनपीएस के हंगामे के बाद हिमाचल प्रदेश विधानसभा की कार्यवाही कल तक के लिए स्‍थगित

 

हिमाचल प्रदेश विधानसभा की कार्यवाही कल तक के लिए स्‍थगित कर दी गई है।

Vidhansabha Proceedings Postponed एनपीएस हंगामे के बाद हिमाचल प्रदेश विधानसभा की कार्यवाही कल तक के लिए स्‍थगित कर दी गई है। गौरतलब है कि वीरवार जहां आर्थिक सर्वेक्षण की रपट पेश की गई वहीं नई पेंशन योजना कर्मचारियों पर भी पक्ष-प्रतिपक्ष में अच्‍छी खाासी तकरार हुई।

शिमला, राज्‍य ब्‍यूरो। एनपीएस हंगामे के बाद हिमाचल प्रदेश विधानसभा की कार्यवाही कल तक के लिए स्‍थगित कर दी गई है। गौरतलब है कि वीरवार जहां आर्थिक सर्वेक्षण की रपट पेश की गई, वहीं नई पेंशन योजना कर्मचारियों पर भी पक्ष-प्रतिपक्ष में अच्‍छी खाासी तकरार हुई।अपरान्‍ह के सत्र में एक बार फिर से हंगामा शुरू हुआ जब नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने न्यू पेंशन कर्मचारियों के मामले को सदन में उठाया। इस पर मुख्‍यमंत्री जयराम ठाकुर ने कांग्रेस की ओर इशारा करते हुए कहा कि यह सब आप सबके कारण हुआ है।मुख्‍यमंत्री ने कहा कि एक ओर आपकी सरकार ने पुरानी पेंशन योजना को बंद कर नई पेंशन योजना लागू की और अब आप ही भड़काने का काम कर रहे हैं। इससे माहौल गरमा गया और तकरार हो गई। मुकेश ने कहा ये काला दिन है। इस बीच पांच मिनट के लिए विधानसभा की कार्यवाही को स्थगित किया गया। उसके बाद कांग्रेस विधायक नारेबाजी शुरू करते हुए सदन से चले गए। इससे पूर्व नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने मामला उठाया और कहा कि प्रदेश सरकार ने अजीब हालात बना दिए हैं। बकौल मुकेश अग्निहोत्री कर्मचारियों को जगह जगह रोका जा रहा है और विधनसभा को पूरी तरह बंद कर दिया है। कोई बाहर नहीं जा सकता। मुकेश अग्नि‍होत्री ने कहा कि ये हमारे कर्मचारी हैं और इनकी बात सुनी जानी चाहिए। उसके बाद कांग्रेस विधायक वापस आए किंतु भाजपा विधायक बाहर ही रहे। इसके बाद मुख्‍यमंत्री जयराम ठाकुर विपक्ष के नेता के पास गए और कुछ देर बाद वहां हंसी के ठहाके गूंजने लगे।

वीरवार को ही न्‍यू पेंशन स्‍कीम से जुड़े कर्मचारियों को विधानसभा आने से रोका गया जबकि वह चौड़ा मैदान में सभा करना चाहते थे। कर्मचारियों को चंडीगढ़-रामपुर राष्‍ट्रीय राजमार्ग पर शिमला की सुरंग 103 पर रोक दिया गया। इससे वहां दो घंटे तक जाम की स्थिति बनी रही। गौरतलब है कि मुख्‍यमंत्री ने हाल में कहा था कि संवाद का रास्‍ता अपनाएं, हड़ताल का नहीं।