देशभर में समितियां बना भाजपा यूक्रेन में फंसे विद्यार्थियों की ले रही है सुध, प्रत्येक राज्य में दो सदस्यीय समिति का गठन

 

बीजेपी ने किया समितियों का गठन (फाइल फोटो)

यूक्रेन के छात्रों की वापसी के लिए भाजपा ने राज्य स्तर पर दो-दो सदस्यीय समितियों का गठन किया है। ये समितियों सांसदों से संपर्क करर छात्रों की लिस्ट सौंप रहीं हैं। सांसद भी परिजनों से मिलकर परेशानियों के बारे में जान रहे हैं।

 बिलासपुर: रूस-यूक्रेन के बीच जारी युद्ध में भारत के कई विद्यार्थी अब भी यूक्रेन में फंसे हुए हैं। इनकी वापसी के लिए भाजपा ने देश के सभी राज्यों में दो-दो सदस्यीय समितियां बनाई हैं। क्षेत्रीय सांसदों से संपर्क कर समितियां विद्यार्थियों की सूची सौंप रहीं हैं। इसके बाद सांसद संबंधित विद्यार्थियों के स्वजन से मिलकर उनकी स्वदेश वापसी में आ रही परेशानियों के बारे में जानकारी ले रहे हैं। सांसद यह भी पता कर रहे हैं कि विद्यार्थी यूक्रेन के किस शहर में हैं। भारतीय दूतावास से उनका संपर्क हो रहा है या नहीं। सभी परिस्थितियों की जानकारी समिति को दे रहे हैं। इसके बाद समिति दिल्ली स्थित भाजपा के केंद्रीय कार्यालय को इसकी सूचना भेज रही हैं। राष्ट्रीय कार्यालय के पदाधिकारी विदेश मंत्रालय व दूतावास से संपर्क साध रहे हैं।विद्यार्थियों के स्वजनों से संपर्क साध रहे सांसद

छत्तीसगढ़ के लिए राजीव अग्रवाल को समिति का संयोजक व प्रितेश गांधी को सदस्य बनाया गया है। समिति ने बिलासपुर लोकसभा क्षेत्र के सांसद अरुण साव को जिले के 15 विद्यार्थियों की सूची भेजी है, जो यूक्रेन व हंगरी में हैं। सांसद साव ने बताया कि वह बीते दो दिनों से विद्यार्थियों के स्वजन के घर पहुंचकर उनके संबंध में जानकारी ले रहे हैं। 15 में से सात की पिछले दो दिनों में स्वदेश वापसी हो गई है। ये तखतपुर, बिलासपुर सहित आसपास के ग्रामीण इलाकों के रहने वाले हैं। शेष आठ छात्र भी दो दिनों के भीतर आ जाएंगे।

स्वजन को भी दे रहे अपडेट

राष्ट्रीय कार्यालय में भाजपा नेताओं की टीम राज्यवार जानकारी विदेश मंत्रालय, केंद्रीय गृह मंत्रालय व दूतावास को भेजती है। इसके अलावा जिस राज्य के विद्यार्थियों की वापसी हो रही है, वहां की प्रांतीय समिति को तत्काल जानकारी दी जा रही है। प्रांतीय समिति क्षेत्रीय सांसदों को जानकारी देती है। सांसदों द्वारा विद्यार्थियों के स्वजन को जानकारी दी जाती है।