परिवहन विभाग से बर्खास्‍त चालक बना नकली इंस्‍पेक्‍टर, शुरू की धोखाधड़ी

 

करनाल में नकली सीआईए इंस्‍पेक्‍टर पकड़ा गया।

करनाल में नकली सीआइए इंस्‍पेक्टर बन करता था धोखाधड़ी। उसे गिरफ्तार किया गया। आरोपित परिवहन विभाग का चालक था और उसे बर्खास्‍त कर दिया गया। इसके बाद धोखाधड़ी से शुरू कर दिया गया। झूठे केस में फंसाने की धमकी देकर ठगी करता।

करनाल,  संवाददाता। हरियाणा परिवहन विभाग से बर्खास्त एक चालक सीआइए का नकली इंस्पेक्टर बनकर लोगों के साथ धोखाधड़ी करने लगा। आरोपित ने करनाल के गांव टिकरी में पहले भूसा खरीदा और जब इसके पैसे मांगे तो उसने सीआइए इंस्पेक्टर बताते हुए झूठे केस में फंसा देने की धमकी देने लगा। सोमवार को पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के बाद आरोपित को जेल भेज दिया गया।

गांव टिकरी वासी दुर्गा व राजकुमार ने मामला दर्ज करया था कि 22 नवंबर 2021 को सुशील वासी ज्योति कालोनी उनसे करीब 30 हजार रुपये का भूसा (पशुओं का चारा) खरीद ले गया था। उन्होंने इसके पैसे मांगे तो वह इंस्पेक्टर होने की धमकी देने लगा। पुलिस ने मामले की जांच करते हुए आरोपित को गिरफ्तार कर लिया।

पूछताछ में पता चला कि सुशील पहले परिवहन विभाग में ड्राइवर था और करीब सात सात साल से बर्खास्त चल रहा है। उसके खिलाफ विभिन्न जिलों में छह आपराधिक मामले दर्ज हैं। इनमें धोखाधड़ी का एक मामला पंचकूला, भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत एक मामला कुरुक्षेत्र, भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत एक मामला रोहतक, धोखाधड़ी के दो मामले करनाल व चोरी का एक मामला पानीपत में दर्ज है। आरोपित के कब्जे से ढाई हजार रुपये भी मिले हैैं।

करनाल में दो हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया पटवारी

(इंद्री) करनाल। विजिलेंस टीम ने सोमवार को इंद्री के पटवारखाने में पटवारी रणजीत सिंह को दो हजार रुपये रिश्वत लेते गिरफ्तार किया। आरोपित पटवारी विरासत का इंतकाल दर्ज करने की आड़ में मुरादगढ़ वासी अजय से रिश्वत ले रहा था। पीडि़त करीब 20 दिन से पटवारी के चक्कर काट रहा था। इसके चलते उसने विजिलेंस को शिकायत दे दी। इंस्पेक्टर प्रवीन के नेतृत्व में टीम ने कार्यालय में छापेमारी की और पटवारी को अजय से दो हजार रुपये लेते हुए रंगेहाथ पकड़ लिया। आरोपित को मंगलवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा।