वाराणसी में ममता-अखिलेश की जनसभा में उमड़ी भीड़, देखें कार्यक्रम स्‍थल की तस्‍वीरें

 

वाराणसी में ममता और अखिलेश की साझा जनसभा में लोगों की खूब भीड़ उमड़ी।

UP Election 2022 वाराणसी में अखिलेश यादव और ममता बनर्जी की जनसभा के दौरान खूब सियासी तीर भाजपा पर दोनों की ओर से चले। अखिलेश ममता जयंत और ओमप्रकाश राजभर ने मंच से खूब सियासी वार भाजपा पर किए।

वाराणसी,  संवाददाता। अखिलेश यादव और ममता बनर्जी की जनसभा के दौरान खूब सियासी तीर भाजपा पर चले। वाराणसी में अखिलेश, ममता, जयंत और ओमप्रकाश राजभर ने मंच से खूब सियासी वार भाजपा पर किए। दूसरी ओर सपा - सुभासपा के मंच पर श‍िवपाल और रामगोपाल यादव के बीच भी तालमेल खूब दिया। मंच से ही ममता ने फुटबाल को उठाया और बताया कि अब यूपी में भी 'खेला होबे'। मंच से ही बंगाल की चुनावी जनसभाओं की याद जाता हो उठी। तस्‍वीरों में देखिए वाराणसी में सपा के जनसभा की तस्‍वीरें...

jagran

मंच पर सपा के दिग्‍गजों का जमावड़ा हुआ और ममता के साथ ही जयंत और ओमप्रकाश राजभर सहित आठों विधानसभाओं के उम्‍मीदवार भी मौजूद रहे। 

jagran

ऐढ़े में होने वाली जनसभा में सपाइयों और सुभासपा के कार्यकर्ताओं का भी हुजूम खूब उमड़ा और दूर तक सुरक्षा व्‍यवस्‍था बनाए रखने में सुरक्षा बलों को नाको चने चबाने पड़े। 

jagran

सभा के दौरान कई मौकों पर पुलिस को भी लाठियां उठाकर कार्यकर्ताओं को संभालना पड़ा। 

jagran

मंच पर ममता बनर्जी ने भाषण के साथ ही हाथ में फुटबाल लेकर जनता की ओर उछाला और यूपी में खेला होबे का मंत्र दिया। 

jagran

ममता ने मंच से फुटबाल उछाला तो जनता से भी यूपी में 'खेला होबे' और 'खदेड़ा होबे' की बात कहकर लोगों को उत्‍साह से लबरेज कर दिया।

jagran

पूरी जनसभा के दौरान केंद्र में ममता बनर्जी ही रहीं, वायदे के मुताबिक यूपी चुनाव में वह सपा के साथ प्रचार करने मंच पर नजर आईं और खूब सियासी तीर चलाए। 

jagran

मंच पर यूपी के दिग्‍गज सपा नेताओं ने एकजुटता दिखाई और सपा में सबकुछ ठीक होने का संदेश भी मंच से देकर जनता से चुनाव जिताने की अपील की।

jagran

अखिलेश यादव ने मंच से ममता के यूपी में आने से भाजपा को नुकसान होने की बात कही और भाजपा को केंद्र में रखकर सियासी तीर चलाए।

jagran

मंच के पास सपाइयों ने फुटबाल लेकर खदेड़ा होबे का संदेश देकर मंचासीन नेताओं का भी खूब उत्‍साह बढ़ाया। 

jagran

मंच के पास साइकिल ले जाने की तमन्‍ना को लेकर सपाइयों और सुभासपा नेताओं संग पुलिस को भी खूब जूझना पड़ा।

jagran

भीड़ अधिक होने की वजह से कई नेता गिरे भी और कई बार लाठी चार्ज करने तक की नौबत आ गई। इस दौरान कई लोग चोटिल भी हो गई।