पीएम मोदी ने अहमदाबाद में किया रोड शो, जगह-जगह हुआ स्वागत; उमड़ी भीड़

 

पीएम मोदी ने अहमदाबाद में किया रोड शो। फोटो इंटरनेट मीडिया

Gujarat प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के अहमदाबाद में शनिवार को रोड शो किया। रोड शो के दौरान मोदी का जगह-जगह स्वागत किया गया। मोदी के रोड शो में भारी भीड़ उमड़ी। मोदी ने शुक्रवार को भी रोड शो किया था।

नई दिल्ली, एएनआइ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के अहमदाबाद में शनिवार को रोड शो किया। रोड शो के दौरान मोदी का जगह-जगह स्वागत किया गया। मोदी के रोड शो में भारी भीड़ उमड़ी। रोड शो से इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि रक्षा क्षेत्र काफी विशाल है, पुलिस, सेना, न्याय, जेल आदि क्षेत्रों को आधुनिक तकनीक से सुसज्ज कर इनको अधिक प्रभावशाली बनाया जा सकता है। फिल्म व अखबारों ने समाज में पुलिस का भद्दा चेहरा पेश किया है, लेकिन महामारी में पुलिस का मानवीय चेहरा जनमानस में उभरा। केंद्रीय गृहमंत्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी अपने विजन के कारण पूरी दुनिया में छाए हुए हैं, दुनिया के नेता उनकी राय जानने को आतुर रहते हैं।

jagran

गांधीनगर के लवाड गांव में स्थित राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह व नए भवन के लोकार्पण समारोह में प्रधानमंत्री ने कहा कि रक्षा क्षेत्र महज पुलिस के लिए नहीं है, समूचे रक्षा क्षेत्र को बेहतर बनाने के लिए कुशल प्रशिक्षक मानवशक्ति की जरूरत है। जो अपराध अन्वेषण के साथ अपराधी की मानसिकता को भी समझ सके। लोकतंत्र को सर्वोपरी मानते हुए आंदोलन करने वाले लोगों व युवाओं से बेहतर संवाद के जरिए उसका श्रेष्ठ समाधान ला सके। अंग्रेजों के जमाने में कानून व व्यवस्था का उद्देश्य महज अंग्रेजी सत्ता को बचाकर रखना था, इसलिए इसे लंबी चौड़ी कदकाठी के लोग व हाथ में डंडे से जोड़ कर सीमित रखा गया। अब दिव्यांग भी प्रशिक्षण पाकर रक्षा क्षेत्र में अपना अनूठा योगदान कर सकते हैं। मोदी ने कहा कि देश में फिल्म व अखबारों ने पुलिस की छवि को नकारात्मक रूप में पेश किया, लेकिन कोरोना महामारी के दौरान पुलिस का मानवीय चेहरा उभरा, पुलिस किसी पीड़ित परिवार को दवा पहुंचा रही थी तो कहीं पर खाना।

jagran

प्रधानमंत्री ने कहा कि जेल की व्यवस्था को भी सुधारने के लिए आधुनिक तकनीक का उपयोग जरुरी है। विशेषज्ञों को जेल में भेजकर अपराध की प्रक्रति व अपराधी की मानसिकता का अध्ययन कराया जाए, ताकि अपराधी को जेल से एक अच्छा नागरिक बनाकर निकाला जा सके। मोदी ने कहा कि सेना, पुलिस जवानों के तनाव को कम करने के लिए पहले कोई व्यवस्था नहीं थी, लेकिन आज बड़े पैमाने पर योग शिक्षक भर्ती किए जा रहे हैं। मोदी ने कहा कि 12 मार्च नमक सत्याग्रह के लिए जाना जाता है, इस दिन दुनिया को भारत ने गांधीजी के अगुवाई में सामूहिक शक्ति का अहसास कराया। साइबर युग में अपराधी आधुनिक तकनीक से सुसज्ज होकर अपराधों को अंजाम दे रहे हैं. इसलिए उन्हें पकड़ने के लिए भी आधुनिक तकनीक व साइबर विशेषज्ञों की जरूरत है। प्रधानमंत्री ने बताया कि जब इस विश्वविद्यालय की स्थापना की जा रही थी, तब इस क्षेत्र से जुड़े दुनिया के कई नामी संस्थानों को देखकर अलग-अलग जगहों से विविध विषयों के विशेषज्ञों को लाया गया।

केंद्रीय गृह व सहकारिता मंत्री अमित शाह ने कहा कि मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री रहते पुलिस थानों का 100 फीसद कंप्यूटराइजेशन कर इंटरनेट से जोड़ दिया, जिसके कारण अपराधियों को पकड़ने की दर बढ़ी है। उच्च तकनीक का एक साफ्टवेयर भी उस वक्त तैयार करा कर थानों को दिया गया। शाह ने बताया कि जेल सुधार, फारेंसिक साइंस लैब, रक्षा शक्ति यूनिवर्सिटी को आधुनिकीकरण व प्रशिक्षण से जोड़ने का कार्य प्रधानमंत्री मोदी ने 2002 से 2013 के बीच ही कर दिया था। कानून, रक्षा शक्ति व फारेंसिक साइंस लैब यह तीनों कानून व्यवस्था के अहम पहलू हैं, जिन्हें आपस में जोड़कर मोदी ने इस क्षेत्र में एक अतुलनीय काम किया। प्रधानमंत्री मोदी अपने विजन व दृष्टिकोण के कारण है पूरी दुनिया में छाए हुए हैं। दुनिया के नेता हर विषय पर उनकी राय जानने को आतुर होते हैं। समारोह में गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत भी मौजूद रहे। प्रधानमंत्री मोदी ने 34 छात्र छात्राओं को गोल्ड मेडल व प्रशस्ति पत्र प्रदान किया। प्रथम दीक्षांत समारोह में एक हजार से अधिक विद्यार्थियों को रक्षा क्षेत्र में पीएचडी, एमफिल, स्नातक, स्नातकोत्तर डिप्लोमा की पदवियां प्रदान की गई। रक्षा शक्ति यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो बिमल पटेल ने इससे पहले आगंतुकों का स्वागत किया तथा युनिवर्सिटी के कामकाज से अवगत कराया। समारोह में अन्य विश्वविध्यालयों के 10 कुलपति भी आमंत्रित किए गए।