भाजपा के वागीश पाठक निर्विरोध निर्वाचित, सपा के सिनोद ने वापस लिया नामांकन पर्चा

 

UP MLC Election 2022 : सिनोद शाक्य ने दोपहर तीन बजे अचानक कलेक्ट्रेट पहुंच कर अपना पर्चा वापस ले लिया।

UP MLC Election 2022 उत्तर प्रदेश विधान परिषद चुनाव में मतदान से पहले ही बदायूं स्थानीय प्राधिकारी निर्वाचन क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी वागीश पाठक निर्विरोध निर्वाचित हो गए। इस सीट पर अभी तक दो प्रत्याशी थे। एक भाजपा के वागीश पाठक तो दूसरे समाजवादी पार्टी के सिनोद शक्य।

बदायूं: उत्तर प्रदेश विधान परिषद चुनाव में मतदान से पहले ही बदायूं स्थानीय प्राधिकारी निर्वाचन क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी वागीश पाठक निर्विरोध निर्वाचित हो गए। इस सीट पर अभी तक दो प्रत्याशी थे। एक भाजपा के वागीश पाठक तो दूसरे समाजवादी पार्टी के सिनोद शक्य।बुधवार सुबह से ही राजनीतिक गलियारों में सपा प्रत्याशी सिनोद शाक्य के पर्चा वापस लेने की चर्चा थी। शाम होते होते यह बात पुष्ट भी हो गई। सिनोद शाक्य ने दोपहर तीन बजे अचानक कलेक्ट्रेट पहुंच कर अपना पर्चा वापस ले लिया। अब भाजपा के प्रत्याशी बागीश पाठक बदायूं की एमएलसी सीट से निर्विरोध एमएलसी हो गए हैं।इसकी जानकारी सामने आते ही भाजपाइयों में खुशी की लहर दौड़ गई। हालांकि सिनोद शाक्य इस संबंध में कोई भी टिप्पणी न करते हुए चुपचाप गाड़ी में बैठकर निकल गए। बताते हैं कि मंगलवार रात को सिनोद शाक्य लखनऊ गए थे। जहां भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से उनकी बातचीत हुई। इसके बाद उन्होंने बुधवार को पर्चा वापस ले लिया। अब उनके भाजपा में शामिल होने की भी अटकलें लगाई जा रही हैं। क्षेत्र में चर्चा है कि एमएलसी चुनाव की प्रक्रिया पूरी होने के बाद सिनोद शाक्य भाजपा में शामिल हो सकते हैं। सिनोद के इस कदम से समाजवादी पार्टी को करारा झटका लगा है।

सादे कागज पर दी जाएंगी पहचान पर्चियां : एमएलसी चुनाव को स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण संपन्न कराने के लिए अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व संतोष कुमार वैश्य ने राजनीतिक दलाें के पदाधिकारियों के साथ बैठक की। चुनाव आचार संहिता से अवगत कराते हुए बताया कि मतदाताओं को दी जाने वाली पहचान पर्चियां सादे कागज पर होंगी। उस पर कोई प्रतीक, अभ्यर्थी का नाम या दल का नाम नहीं होगा। उन्होंने बताया कि मतदान के लिए 16 मतदेय स्थल बनाए गए हैं। अंतिम प्रकाशित निर्वाचक नामावली में 2694 मतदाता हैं।

इसमें जिला पंचायत, क्षेत्र पंचायत, नगर पालिका परिषद, नगर पंचायत के सदस्यगण एवं ग्राम प्रधान मतदाता हैं। इनके साथ ही वर्तमान में सांसद, राज्य सभा सदस्य, विधायक, विधान परिषद सदस्य, पदेन सदस्यों के रूप में निर्वाचक नामावली में मतदाता के रूप में पंजीकृत होते हैं। उन्होंने मतदेय स्थलों के संबंध में राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ विचार विमर्श भी किया गया। बताया कि कलक्ट्रेट स्थित डीएम कार्यालय के निकट गंगा एक्सप्रेसवे कार्यालय में स्ट्रांग रूम बनाकर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था में मतपेटिकाएं रखी जाएंगी। बैठक में सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी केके कश्यप, वरिष्ठ सहायक सुधीर शर्मा, सपा के मीडिया प्रभारी प्रभात अग्रवाल, कांग्रेस के जिला उपाध्यक्ष सुरेश राठौर आदि मौजूद रहे।