योगी मंत्रिपरिषद में सबसे अमीर मंत्री मयंकेश्वर शरण सिंह, जानिए किसके पास कितनी संपत्ति

 

UP Yogi Cabinet 2.0 ADR Report: योगी कैबिनेट पर एडीआर रिपोर्ट।

UP Yogi Adityanath Cabinet 2.0 Latest News एडीआर की रिपोर्ट के अनुसार योगी आदित्यनाथ सरकार 2.0 में सबसे अमीर मंत्रियों में पहले नंबर पर मयंकेश्वर शरण सिंह हैं। दूसरे नंबर पर राकेश सचान और तीसरे नंबर पर नंद गोपाल गुप्ता नंदी हैं।

लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। UP Yogi Cabinet 2.0 ADR Report: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की उपस्थिति में योगी आदित्यनाथ ने अपने मंत्रिपरिषद के साथ मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। योगी के इस 53 सदस्यीय मंत्रिपरिषद से लोकसभा चुनाव 2024 की मजबूत तैयारी भी है। योगी आदित्यनाथ की मंत्रिपरिषद में सबसे अमीर मंत्री मयंकेश्वर शरण सिंह हैं। अमेठी की तिलोई सीट से जीतकर आये मयंकेश्वर सिंह की घोषित संपत्ति 58 करोड़ रुपये है। उन्हें राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार बनाया गया है।

योगी सरकार के सबसे अमीर मंत्रियों में दूसरे नंबर पर राकेश सचान और तीसरे नंबर पर नंद गोपाल गुप्ता नंदी हैं। कानपुर देहात की भोगनीपुर सीट से जीत दर्ज करने वाले राकेश सचान ने अपनी संपत्ति 37.54 करोड़ रुपये व प्रयागराज की दक्षिण सीट से विजेता रहे नंदी ने 37.32 करोड़ रुपये घोषित की है। चुन कर आये कई ऐसे सदस्य भी हैं, जिनकी संपत्ति 10 करोड़ रुपये से अधिक है।

एसोसिएशन फार डेमोक्रेटिक रिफार्म (एडीआर) की रिपोर्ट के अनुसार राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार बने नितिन अग्रवाल 31.52 करोड़ तथा रविन्द्र जायसवाल 26.98 करोड़ रुपये की संपत्ति के मालिक हैं। उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने अपनी संपत्ति 10 करोड़ से अधिक घोषित की है। कैबिनेट मंत्री बने जयवीर सिंह की संपत्ति 17 करोड़ रुपये से अधिक व लक्ष्मी नारायण सिंह की संपत्ति 14 करोड़ रुपये है।

कैबिनेट मंत्री बने अरविंद कुमार शर्मा भी 10 करोड़ से अधिक की संपत्ति के स्वामी हैं। इनके अलावा मंत्रिपरिषद में शामिल सूर्य प्रताप शाही, सुरेश कुमार खन्ना, स्वतंत्र देव सिंह, बेबीरानी मौर्य, धर्मपाल सिंह, अनिल राजभर, कपिल देव अग्रवाल, गुलाब देवी, असीम अरुण, दयाशंकर सिंह, बलदेव ओलख, संजय सिंह गंगवार, सुरेश राही, प्रतिभा शुक्ला, डा.सोमेन्द्र तोमर व रजनी तिवारी भी करोड़पति हैं।

दो पूर्व अधिकारी बने मंत्री : मंत्रिपरिषद में दो पूर्व अधिकारी भी शामिल हैं। इनमें पहला नाम पूर्व आइएएस अधिकारी अरविंद कुमार शर्मा व दूसरा नंबर पूर्व आइपीएस अधिकारी असीम अरुण का है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के पूर्व ज्वाइंट डायरेक्टर राजेश्वर सिंह भी स्वैछिक सेवानिवृत्ति लेकर चुनाव लड़े थे। हालांकि लखनऊ की सरोजनीनगर सीट से जीत दर्ज करने वाले राजेश्वर सिंह मंत्रिपरिषद में जगह नहीं पा सके।