होली पर घर जाने से पहले जान ये रेलवे में सोने का यह नियम, नहीं होगी परेशानी सफर होगा आरामदायक

रेलवे में म्यूजिक बजाने को लेकर बने नियमों को लेकर जागरुकता अभियान चल रहा है।

रेलवे के मुताबिक अक्सर यह देखा जाता है कि ट्रेन में रात को लोग खाने के बाद सोने के वक्त तेज आवाज में म्यूजिक सुनते हैं। इसके कारण आसपास के लोगों को दिक्कत होती है। कुछ लोग लाइट जला कर तेज-तेज आवाज में बात करते हैं जिससे परेशानी होती है।

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। होली पर घर जा रहे हैं और आप रेलवे के इस नियम से आप वाकिफ नहीं हैं तो आपकी परेशानी बढ़ सकती है। इसलिए रेलवे नियमों को लेकर आजकल जागरुकता अभियान चला रहा है। लोगों को इस नियम के बारे में बताया जा रहा है ताकि उन्हें एक आरामदायक और सुकून भरे सफर का आनंद मिल सके। खासकर रेलवे के इस नियम से यात्रियों को सोकर सफर करने में आराम रहेगा।

क्या है रेलवे का सोने को लेकर नियम

रेलवे के मुताबिक अक्सर यह देखा जाता है कि ट्रेन में रात को लोग खाने के बाद सोने के वक्त तेज आवाज में म्यूजिक सुनते हैं। इसके कारण आसपास के लोगों को दिक्कत होती है। कुछ लोग लाइट जला कर तेज-तेज आवाज में बात करते हैं। इससे भी जल्दी सोने वाले लोगों को दिक्कत होती है। रेलवे को लगातार इसकी शिकायत मिल रही है। यह भी बता दें कि रेलवे ही नहीं यह हम सभी की सामाजिक जिम्मेदारी होती है कि हम ऐसी कोई हरकत ना करें जिससे बोगी में सफर कर रहे किसी यात्री को परेशानी हो। हालांकि, कुछ लोग जानबूझ कर तो कुछ अनजाने में नियमों का उल्लंघन कर बैठते हैं जिससे परेशानी शुरू होती है। जिसके कारण ट्रेन में बहस और तू-तू मैं-मैं हो जाती है। इसके कारण रेलवे ने एक फिर से सोने एवं तेज आवाज में म्यूजिक बजाने को लेकर बने नियमों को लेकर जागरुकता अभियान चला रहा है।

अगर हुई परेशानी तो चलती ट्रेन में कौन करेगा समाधान

बता दें कि यात्रियों के द्वारा अक्सर शिकायतें आ रही थी जिसके बाद रेलवे ने जागरुकता अभियान चलाया है। रेलवे के इस कदम की लोग तारीफ भी कर रहे हैं कि अब यात्री की नींद में कोई ख़लल नहीं डाल सकेगा। इतना ही नहीं अगर को इन नियमों की अवहेलना करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई का भी प्रावधान है। हालांकि, यह सवाल है कि चलती ट्रेन में कौन आपकी मदद करेगा। हम आपको बता दें कि अगर आपकी ट्रेन चल रही है तो उसके समाधान करने की जिम्मेदारी ट्रेन में मौजूद स्टाफ की होगी। वहीं यह भी बता दें कि रेलवे को लाइट जलाने बुझाने को लेकर भी शिकायतें मिलती रहती हैं कि कुछ लोग ग्रुप बनाकर हंसी मजाक देर रात तक करते रहते हैं।