केंद्रीय विश्वविद्यालयों में दाखिले के लिए दो अप्रैल से कर सकेंगे आवेदन

 

केंद्रीय विश्वविद्यालयों में सीयूईटी के जरिए दाखिला।

केंद्रीय विश्वविद्यालयों में इस साल से कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेस टेस्ट (सीयूईटी) के जरिए ही दाखिला देने के विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के एलान के बाद रविवार को नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने इसे लेकर पूरा कार्यक्रम जारी कर दिया है।

 ब्यूरो, नई दिल्ली। केंद्रीय विश्वविद्यालयों में इस साल से कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेस टेस्ट (सीयूईटी) के जरिए ही दाखिला देने के विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के एलान के बाद रविवार को नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने इसे लेकर पूरा कार्यक्रम जारी कर दिया है। इसके तहत केंद्रीय विश्वविद्यालयों में दाखिले के लिए अब दो अप्रैल से आवेदन की प्रकिया शुरू हो जाएगी। जो 30 अप्रैल तक चलेगी। परीक्षा की तारीख अभी घोषित नहीं की गई है, लेकिन माना जा रहा है कि यह जुलाई में होगी।

खासबात यह है कि सीयूईटी को अभी सिर्फ सभी केंद्रीय विश्वविद्यालयों में दाखिले के लिए अनिवार्य किया गया है, लेकिन यूजीसी की कोशिश है कि इससे देश भर के सभी राज्य विश्वविद्यालय, डीम्ड विश्वविद्यालय और निजी विश्वविद्यालयों भी जुड़े। यूजीसी ने इस संबंध में सभी राज्य विश्वविद्यालयों, डीम्ड व निजी विश्वविद्यालयों को न्यौता दिया है कि वह इस टेस्ट से जुड़े। इससे छात्रों और उनके संस्थानों दोनों को फायदा होगा। इस बीच सीयूईटी को लेकर एनटीए ने जो कार्यक्रम जारी किया है, उसके तहत छात्र दो से तीस अप्रैल के बीच सीयूईटी की वेबसाइट पर जाकर आनलाइन आवेदन कर सकेंगे।

इस दौरान विश्वविद्यालयों की ओर से चलाए जा रहे जिस कोर्स में वह दाखिला चाहते है, उसका भी चयन कर सकते है। यह पूरी परीक्षा कम्प्यूटर आधारित होगी। जो ढाई घंटे की होगी। इसके तीन खंड होंगे। जिसमें पहला खंड भाषा का होगा। जबकि दूसरा विषय से जुड़ा होगा और तीसरा खंड सामान्य ज्ञान आदि पर आधारित होगा। सामान्य ज्ञान आधारित टेस्ट आवेदन करने वाले सभी छात्रों के लिए अनिवार्य होगा। गौरतलब है कि मौजूदा समय में देश में कुल 45 केंद्रीय विश्वविद्यालय है। इन विश्वविद्यालयों के साथ ही इनसे संबंद्ध कालेजों में भी सीयूईटी के जरिए ही दाखिला होगा।

विषयों के चुनाव के लिए बनाए गए 27 डोमेन

सीयूईटी में छात्रों को विषयों के चुनाव के पर्याप्त विकल्प दिए गए है। इस दौरान विषयों के कुल 27 डोमेन बनाए गए है। जिसमें छात्र अधिकतम छह डोमेन में ही आवेदन कर सकेगा। हालांकि प्रत्येक डोमेन के लिए उसे एक अलग से टेस्ट देना होगा। जो 45 मिनट का होगा। जिसमें कुल पचास प्रश्न पूछे जाएंगे, जबकि जवाब सिर्फ 40 के ही देने होंगे। वहीं जनरल टेस्ट कुल 60 मिनट का होगा। जिसमें कुल 75 प्रश्न पूछे जाएंगे, जबकि सवाल 60 के ही देने होंगे। इसके साथ ही प्रत्येक भाषा का टेस्ट भी 45 मिनट का होगा। जिसमें कुल 50 प्रश्न पूछे जाएंगे, जबकि जवाब सिर्फ 40 के ही देने होंग

े।