राजनीति में मोदी के प्रभुत्व को मजबूत करेगी चार राज्यों में भाजपा की जीत'

 

'राजनीति में मोदी के प्रभुत्व को मजबूत करेगी चार राज्यों में भाजपा की जीत'

Indian Politics in International Media अंतरराष्ट्रीय मीडिया का मानना है कि उत्तर प्रदेश समेत चार राज्यों में भाजपा की रिकार्ड जीत भारतीय राजनीति में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रभुत्व को निकट भविष्य में फिर से मजबूत करेगी ।

वाशिंगटन, प्रेट्र। Assembly Elections 2022: पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों पर करीब से नजर रख रहे अंतरराष्ट्रीय मीडिया का मानना है कि उत्तर प्रदेश समेत चार राज्यों में भाजपा की रिकार्ड जीत भारतीय राजनीति में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रभुत्व को निकट भविष्य में फिर से मजबूत करेगी। वाशिंगटन पोस्ट की खबर के मुताबिक, भाजपा ने यह जीत कल्याणवाद, हिंदुत्व और मोदी की लोकप्रियता के स्तंभ पर खड़े गवर्नेस माडल पर हासिल की है।

बरकरार है जनसमर्थन 

उत्तर प्रदेश में अपनी प्रचंड जीत से भाजपा ने दिखा दिया है कि अर्थव्यवस्था के प्रबंधन को लेकर उसकी आलोचना से निपटने के लिए उसका जनसमर्थन बरकरार है। इन चुनाव परिणामों ने 2024 के आम चुनाव जीतने की भाजपा की संभावनाएं बढ़ा दी हैं। अखबार यह भी लिखता है कि भाजपा की जीत राष्ट्रीय राजनीति में उसकी स्थिति मजबूत करेगी और भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने और पंथनिरपेक्षता के संस्थापक सिद्धांतों से दूर होने के मोदी के दृष्टिकोण को जोरदार समर्थन प्रदान करेगी।

मोदी की पकड़ को चुनौती देना आसान नहीं 

न्यूयार्क टाइम्स ने लिखा है कि मोदी की पार्टी को राज्यों और आम चुनावों में कभी कभी मजबूत क्षेत्रीय पार्टियों के खिलाफ संघर्ष करना पड़ा है, लेकिन इनमें से किसी के लिए भी विपक्षी पार्टी के रूप में उभरकर देश पर उनकी पकड़ को चुनौती देना आसान नहीं होगा। राष्ट्रीय स्तर पर मौजूदगी वाली सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी कांग्रेस तेजी से कमजोर होती दिखाई दे रही है।लंदन स्थित डेली टेलीग्राफ लिखता है कि उत्तर प्रदेश में जीत से मोदी की 2024 में लगातार तीसरी जीत हासिल करने की उम्मीदों को बल मिलेगा और पिछले दशकों में देश के सर्वाधिक लोकप्रिय नेता की उनकी छवि और मजबूत होगी।बीबीसी का कहना है कि यह दिन अपने-अपने राज्यों में इतिहास रचने वाले दो व्यक्तियों के नाम है। एक हैं उत्तर प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और दूसरे हैं पंजाब के भावी मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान।