सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल का हुआ सफल परीक्षण, दूर से ही अपने टारगेट पर साधा निशाना

 

मिसाइल सिस्टम एमआरएसएएम का आईटीआर बालासोर में हुआ परीक्षण। (फोटो-एएनआइ)

डीआरडीओ अधिकारी के अनुसार सिस्टम से निकली मिसाइल ने लंबी दूरी तय कर एक उच्च गति वाले हवाई लक्ष्य को नष्ट किया है। इसका परीक्षण आईटीआर बालासोर में किया गया यह प्रणाली किसी भी मिसाइल या लड़ाकू विमान आदि को मार गिराने में पूरी तरह से सक्षम है

बालासोर, एएनआइ। भारत ने आज जमीन से हवा में मार करने वाले एमआरएसएएम सिस्टम (मीडियम रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल) का सफल परीक्षण किया है। एमआरएसएएम-आर्मी मिसाइल सिस्टम की मिसाइल का परीक्षण आइटीआर बालासोर में किया गया। डीआरडीओ अधिकारी के अनुसार सिस्टम से निकली मिसाइल ने लंबी दूरी तय कर एक उच्च गति वाले हवाई लक्ष्य को एक बार में ही नष्ट किया है।

बता दें कि यह मिसाइल 70 किलोमीटर के दायरे में आने वाली किसी भी दुश्मन की मिसाइल या लड़ाकू विमान आदि को मार गिराने में पूरी तरह से सक्षम है।इजरायल संग बनाई गई है मिसाइल

बता दें कि इस मिसाइल सिस्टम को इजरायल के सहयोग से डीआरडीएल हैदराबाद और डीआरडीओ ने संयुक्त रूप से बनाया है। इस सिस्टम में एडवांस रडार, मोबाइल लांचर के साथ कमांड एंड कंट्रोल सहित इंटरसेप्टर भी मौजूद है।

यह है इस सिस्टम की खासियत

बता दें कि  एक एमआरएसएएम की खासियत है कि यह जमीन से आसमान तक लम्बी दूरी तक किसी भी दुश्मन के हवाई हमले को नाकाम कर सकता है। यह एक वार में ही अपने लक्ष्य को नष्ट कर सकता है। इसमें काम्बैट मैनेजमेंट सिस्टम, रडार सिस्टम, मोबाइल लांचर सिस्टम, एडवांस्ड लांग रेंज रडार, रीलोडर व्हीकल और फील्ड सर्विस व्हीकल आदि शामिल है जो दुश्मन की स्टीक जानकारी देता है।