सूरजकुंड मेले में एंट्री के लिए कितने का होगा टिकट और क्या होगी टाइमिंग? जानिये- सारी डिटेल

 

Surajkund Mela 2022: सूरजकुंड मेले की टाइमिंग और टिकट समेत अन्य सभी डिटेल के लिए पढ़ें यह स्टोरी

Surajkund Mela 2022 19 मार्च से 4 अप्रैल तक मेला आयोजन को सूरजकुंड मेला प्राधिकरण पूरी तरह से तैयार है। इस वर्ष स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने पर मेला आजादी के अमृत महोत्सव को समर्पित किया गया है।

नई दिल्ली/फरीदाबाद,  डिजिटल डेस्क। 35वें सूरजकुंड अंतरराष्ट्रीय हस्तशिल्प मेले का उद्घाटन शनिवार शाम को हरिय़ाणा के सीएम मनोहर लाल और राज्यपाल बण्डारू दत्तारेय संयुक्त रूप से करेंगे। इसके साथ ही मेले की शुरुआत हो जाएगी। गौरतलब है कि सूरजकुंड मेला शनिवार से शुरू होकर 4 अप्रैल तक चलेगा।

वहीं, सूरजकुंड मेले में थीम स्टेट जम्मू-कश्मीर का अपना घर खास तरह से डिजाइन किया गया है। वीआइपी गेट के पास बनाए गए अपना घर में तीन तरफ खिड़कियां हैं। प्लाई और वुडन का यह घर दो मंजिला है। अपना घर की दोनों मंजिलों पर मिट्टी के चूल्हे बनाए जा रहे हैं। कश्मीरी घर के डिजाइनों का अपना समृद्ध इतिहास है। खास बात यह है कि घर के दरवाजे के साथ खिड़कियां हैं। इसके अलावा दोनों तरफ भी खिड़कियां हैं। छत की बात करें, तो पहले मंजिल पर आपको गैलरी मिलेगी। पहली मंजिल पर चले जाएंगे, तो गर्मी में गैलरी में बैठ कर हवा ले सकते हैं।

इस घर को बनाने में जुटे कारीगर राजूद्दीन, अरविंद तथा गुड्डू राज ने बताया कि अपना घर में थोड़ा सा काम बाकी है। घर के फर्श की गोबर से लिपाई की जाएगी, ताकि शनिवार को आने वाले पर्यटक अपना घर का दीदार कर सकें। जम्मू-कश्मीर के होंगे 15 शिल्पगुरु, पशमीना शाल बनते देखे सकेंगे पर्यटक जम्म-कश्मीर के पर्यटन सचिव सरमद हफीज कहते हैं कि कुछ इस तरह से डिजाइन करके अपना घर बनाया गया है, जिससे पर्यटकों को लगे कि वे जम्मू-कश्मीर में हैं। मेले में जम्मू-कश्मीर के 50 स्टाल होंगे। इनमें 15 शिल्पगुरु के साथ नेशनल अवार्डी भी होंगे।

jagran मेले में हस्तशिल्पी अपने स्टाल पर पशमीना शाल तथा कारपेट बनाते नजर आएंगे। ऐसे पहुंचे अपना घर तक 19 मार्च से शुरू होने वाले मेले में आने वाले दर्शक मुख्य चौपाल से वीआइपी गेट की ओर मुड़ जाएं। इस मार्ग पर बाईं तरफ जम्मू-कश्मीर का अपना घर बनाया गया है। दिल्ली की ओर से से आने वाले पर्यटक छतीसगढ़ गेट से होते हुए यहां आसानी से पहुंच सकते हैं।