दिल्ली के करोलबाग में आभूषण कारोबारी से लूटा था दो किलो सोना, पढ़िए कैसे पहुंचा सलाखों के पीछे

 

बदमाश को सराय रोहिल्ला इलाके से गिरफ्तार कर लिया गया।

आरोपित ने वर्ष 2014 में गीता कालोनी में 7.5 किलो सोने की लूट की थी। उन्हें वर्ष 2017 में जमानत पर रिहा कर दिया गया था। रिकार्ड की जांच करने पर अजीत दिल्ली में कई मामलों में शामिल पाया गया

नई दिल्ली,  संवाददाता। करोलबाग इलाके में आभूषण विक्रेता के कर्मचारियों से 27 फरवरी को हथियार के बल हुई दो किलो सोने की लूट के मामले में स्पेशल सेल ने अजीत नामक बदमाश को गिरफ्तार किया है। वह उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के निवाड़ी थाना क्षेत्र स्थित पटला गांव का रहने वाला है। इससे लूट का एक किलो सोना और 3.20 लाख रुपये बरामद हुए हैं। बदमाश ने साथियों के साथ मिलकर वर्ष 2014 में गीता कालोनी इलाके में भी 7.5 किलो सोना लूटा था। इस पर 10 से अधिक संगीन आपराधिक मामले दर्ज हैं।

स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद सिंह कुशवाहा के मुताबिक, लूट की वारदात के बाद पूर्व में इसी तरह की सोने की लूट में शामिल गिरोहों की जानकारी जुटाई गई तो पता चला कि अजीत और उसके सहयोगियों ने वर्ष 2014 में गीता कालोनी में 7.5 किलो सोने की लूट की थी। उन्हें वर्ष 2017 में जमानत पर रिहा कर दिया गया था। रिकार्ड की जांच करने पर अजीत दिल्ली में कई मामलों में शामिल पाया गया और उत्तर प्रदेश में हत्या, हत्या के प्रयास, डकैती, गैंगस्टर एक्ट के मामले भी शामिल हैं।

जमानत मिलने के बाद से ही वह फरार है। ऐसे में एसीपी ललित मोहन नेगी और हृदय भूषण की देखरेख में इंस्पेक्टर संजय गुप्ता, राजेश कुमार की टीम ने करीब 15 दिन तक अजीत के बारे में जानकारी जुटाकर उसकी निगरानी की। पता चला कि करोलबाग की लूट में वह शामिल है। सूचना के आधार पर उसे सराय रोहिल्ला इलाके से गिरफ्तार कर लिया गया।

अजीत ने लूट की इस वारदात अपने चार साथियों के साथ मिलकर अंजाम दिया था, लेकिन लूट के बाद उसने सोने की एक किलो वजनी ईंट को छिपा दिया और साथियों को बताया कि लूट में केवल एक किलो सोना ही हाथ लगा है। ऐसे में उसे बेचकर सभी ने पैसे आपस में बांट लिए थे।