पिछले एक महीने से जारी युद्ध के कारण यूक्रेन में गहराया मानवीय संकट, एक करोड़ से ज्यादा लोग अब तक हुए विस्थापित

 

यूक्रेन में लगातार गहरा रहा है मानवीय संकट (रायटर्स)

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त ने आंकड़े साझा करते हुए बताया कि यूक्रेन में कुल 2571 नागरिक युद्ध के कारण हताहत हुए हैं। जिनमें से 977 मारे गए और 1594 घायल हुए। यूक्रेन के अभियोजक जनरल के कार्यालय ने संघर्ष में 121 बच्चों के मारे जाने की सूचना दी है।

कीव, एएनआई: रूस और यूक्रेन के बीच पिछले एक महीने से लगातार सैन्य संघर्ष जारी है। फरवरी के महीने में 24 तारीख को रूस ने यूक्रेन में विशेष सैन्य अभियान की घोषणा की थी। यूक्रेन की राजधानी कीव और दक्षिणपूर्वी तटीय शहर मारियुपोल को युद्ध के सबसे गंभीर परिणाम भुगतने पड़े हैं। दोनों शहरों में अभी भी युद्ध के हालात बने हुए हैं।

मारियुपोल में रूसी सेना के ओर लगातार गोलाबारी जारी है। युद्ध शुरू होने के बाद से देश के 87 आवासीय भवन क्षतिग्रस्त हुए हैं। डोनेट्स्क सैन्य प्रशासन के प्रमुख, पावलो किरिलेंको ने बताया कि जिन इलाकों में रूसी सेना ने कब्जा किया है, वहां बड़ी तादाद में लोग फंसे हुए हैं। मारियुपोल में फंसे आल लोगों को रूसी खाना-पानी तक नहीं मुहैया करा रहे हैं।

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायुक्त (यूएनएचसीआर) के अनुसार यूक्रेन में रूस के ओर जारी सैन्य कार्रवाई के कारण अभी तक एक करोड़ से ज्यादा लोग विस्थापित हो चुके हैं। या फिर उन्होंने विदेशों में शरणार्थी के रूप में पहुंचे हैं। बताया जा रहा है कि यूक्रेन से करीब 35 लाख लोगों ने पड़ोसी देशों में शरण ली है। जिनमें पोलैंड, रोमानिया, मोल्दोवा और हंगरी समेत पड़ोसी पश्चिमी देश शामिल हैं। वहीं बुधवार को यूरोपीय संघ की अध्यक्ष उर्सुला वान डेर लेयेन ने युद्ध के कारण विस्थापित हुए लोगों को शरण देने वाले यूरोपीय देशों के लिए 340 करोड़ यूरो के आर्थिक पैकेज की घोषणा की है।

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त ने 22 मार्च तक जमा किए आंकड़ों को साझा करते हुए बताया कि देश में कुल 2,571 नागरिक युद्ध के कारण हताहत हुए हैं। जिनमें से 977 मारे गए और 1,594 घायल हुए। यूक्रेन के अभियोजक जनरल के कार्यालय ने संघर्ष में 121 बच्चों के मारे जाने की सूचना दी है।

इस बीच, यूक्रेन को मानवीय और सैन्य उपकरणों के प्रावधान सहित आने वाले दिनों में सैन्य गठबंधन की रणनीति पर चर्चा करने के लिए नाटो ब्रसेल्स में एक शिखर सम्मेलन आयोजित करेगा। वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन नाटो शिखर सम्मेलन में भाग लेकर यूरोप की अपनी तीन दिवसीय यात्रा शुरू करेंगे। जिसके बाद जी-7 नेताओं की बैठक और यूरोपीय परिषद शिखर सम्मेलन में उनकी उपस्थिति होगी।

रूस ने पिछले महीने डोनेट्स्क और लुहान्स्क के यूक्रेन से अलग क्षेत्र घोषित किया था। जिसके बाद रूस ने यूक्रेन के खिलाफ सैन्य कार्रवाई शुरू की है। रूस द्वारा की जा रही सैन्य कार्रवाई की लगभग सभी पश्चिमी देशों ने निंदा की है। अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, फिनलैंड समेत कई अन्य देशों ने अपने हवाई क्षेत्र में रूसी विमानों पर प्रतिबंध लगा दिया है।