छात्रों के बिजनेस आइडिया को मिल रहे निवेश प्रस्ताव: मनीष सिसोदिया

 

छात्रों के बिजनेस आइडिया को मिल रहे निवेश प्रस्ताव: मनीष सिसोदिया

मनीष सिसोदिया ने कहा कि किसी ने कभी सोचा भी नहीं था कि 11वीं 12वीं के बच्चों के बिजनेस आइडिया को निवेश प्रस्ताव मिलेंगे। हमें इस बात की बहुत खुशी है कि अब ये बच्चे नौकरी मांगने वाले नहीं नौकरी देने वाले बन रहे हैं।

नई दिल्ली, संवाददाता। त्यागराज स्टेडियम में शनिवार को दिल्ली सरकार की ओर से बिजनेस ब्लास्टर्स एक्सपो- 2022 का आयोजन किया गया। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने छात्रों के स्टाल्स पर जाकर उनके स्टार्टअप और बिजनेस इनोवेशन आइडियाज देखे। इसके बाद उपमुख्यमंत्री ने देशभर से आए निवेशकों को संबोधित करते हुए उनसे छात्रों के बिजनेस आइडियाज में निवेश करने की अपील की। इस दौरान कालकाजी से विधायक आतिशी, शिक्षा विभाग के मुख्य सचिव एच राजेश प्रसाद आदि उपस्थित रहे। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि यह पहला ऐसा इन्वेस्टमेंट समिट है जहां सरकारी स्कूलों के 11वीं व 12वीं के बच्चे अपने इनोवेटिव बिजनेस आइडियाज को सरकार की मदद से सफल बिजनेस में तब्दील कर सकेंगे। इस एक्सपो में 126 बिजनेस आइडिया के स्टाल्स लगाए गए। देश के कोने-कोने से आए निवेशकों ने भी इनमें काफी रुचि दिखाई। निवेशक मिलने से छात्र-छात्राओं को अपना बिजनेस बढ़ाने में मदद मिलेगी।मनीष सिसोदिया ने कहा कि किसी ने कभी सोचा भी नहीं था कि 11वीं, 12वीं के बच्चों के बिजनेस आइडिया को निवेश प्रस्ताव मिलेंगे। हमें इस बात की बहुत खुशी है कि अब ये बच्चे नौकरी मांगने वाले नहीं नौकरी देने वाले बन रहे हैं।

डिवाइन क्रिएशन ग्रुप

इस ग्रुप को 12वीं की दो छात्राएं मिन्नी और दिव्यांशी चलाती हैं। ये मधुबनी कला सहित अन्य फाइन आर्ट्स से संबंधित पेंटिंग बनाती हैं। कई राज्यों के फाइन आर्ट्स के 20 कलाकारों को रोजगार भी दे रही हैं। यह ग्रुप अब तक डेढ़ लाख रुपये कमा चुका है जिसमें से कुल एक लाख 20 हजार का मुनाफा मिला है। यह अभी तक सारे सरकारी स्कूलों के बच्चों के स्टार्टअप में सबसे ज्यादा कमाई गई राशि है।

होम आटोमेशन ग्रुप

इस ग्रुप घर व आफिसों में रखे सारे इलेक्ट्रानिक सामान का कंट्रोल फोन के एक क्लिक में उपलब्ध करा रहा है। टीम लीडर और आयडिया डेवलपर आयुष ने बताया कि आइओटी पर आधारित इस तकनीक से आप चाहे कहीं भी रहें, आपके घरों में रखे पंखे, लाइटें अथवा कोई इलेक्ट्रानिक सामान चालू रह गया है तो आप इसे अपने फोन से बंद अथवा पुन: चालू कर सकते हैं। इस तकनीक के माध्यम से इन सामान का करेंट स्टेटस भी पता चल जाता है।

आक्सीजन लैडर्स ग्रुप

विकास की तेजी में पीछे छूट रही हरियाली को वापस लाने की कोशिश करते हुए कमाई की योजना पर यह ग्रुप काम कर रहा है। यह घरों, आफिसों व किसी भी खाली स्थान पर ग्रीन कारिडोर बनाने का काम कर रहे हैं। 25 सदस्यों के साथ मिलकर काम कर रहा यह ग्रुप वेस्ट कोल्डड्रिंक की बोतलों व टूटे-फूटे बर्तनों का प्रयोग कर रहा है। इस ग्रुप ने अभी तक तीन-चार प्रोजेक्ट पर काम करके उस क्षेत्र में हरियाली ला दी है।

व्हाइट लाइट ग्रुप

इस ग्रुप द्वारा बनाए गए बल्ब बिजली से जलते हैं। इस दौरान ये चार्ज भी होते रहते हैं। यानि बिजली कट जाने पर भी ये जलते रहते हैं। इन्हें होल्डर से निकालकर टार्च के रूप में भी प्रयोग किया जा सकता है। इस कटेगरी के रंगीन बल्बों में स्पीकर लगाकर डीजे सेटअप भी तैयार किया गया है। इन रंगीन बल्बों से स्पीकर की तरह गाने, भजन आदि भी सुने जा सकेंगे।