इस्तांबुल में यूक्रेनी और रूसी प्रतिनिधिमंडल के बीच हुई शांति वार्ता, तुर्की ने कहा- युद्ध खत्‍म होने की दिशा में सबसे महत्वपूर्ण प्रगति

 

यूक्रेन के राष्‍ट्रपत‍ि जेलेंस्‍की और रूसी राष्‍ट्रपत‍ि व्लादिमीर पुतिन। फाइल फोटो

यूक्रेन पर जारी भारी हवाई हमले के बीच यूक्रेनी और रूसी प्रतिनिधिमंडलों के बीच शांति वार्ता का नवीनतम दौर मंगलवार (स्थानीय समय) को इस्तांबुल के डोलमाबाहस पैलेस में हुई। सीएनएन न्यूज के अनुसार रूसी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व रूस के उप रक्षा मंत्री अलेक्जेंडर फोमिन ने किया।

कीव, एएनआइ। यूक्रेन पर जारी भारी हवाई हमले के बीच यूक्रेनी और रूसी प्रतिनिधिमंडलों के बीच शांति वार्ता का नवीनतम दौर मंगलवार (स्थानीय समय) को इस्तांबुल के डोलमाबाहस पैलेस में हुई। सीएनएन न्यूज के अनुसार, रूसी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व रूस के उप रक्षा मंत्री अलेक्जेंडर फोमिन ने किया। रूसी प्रतिनिधिमंडल में वार्ताकार व्लादिमीर मेडिंस्की भी शामिल रहे।

वहीं दूसरी ओर, यूक्रेनी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व डेविड अरखामिया ने किया। क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने मंगलवार को कहा कि अनौपचारिक क्षमता में बैठक में भाग लेने वाले सदस्यों में रूसी कुलीन रोमन अब्रामोविच भी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों के बीच संपर्क बनाए रखने के लिए दोनों पक्षों से अनुमोदन प्राप्त करना आवश्यक है। अब्रामोविच के मामले में उन्हें दोनों पक्षों से (उनकी भागीदारी की) मंजूरी है। 

अब तक की सबसे महत्वपूर्ण प्रगति

तुर्की के विदेश मंत्री मेवलुत कावुसोग्लू ने वार्ता समाप्त होने के बाद कहा कि आज तक की चर्चाओं में मौजूदा वार्ता सबसे महत्वपूर्ण प्रगति है। रूस के अपने पड़ोसी पर आक्रमण के बीच अब पांचवें सप्ताह में यूक्रेनी और रूसी वार्ताकारों ने मंगलवार को दो सप्ताह से अधिक समय में पक्षों के बीच पहली आमने-सामने की बैठक की। कावुसोग्लू ने कहा कि तुर्की ने दोनों देशों के समझौते और कुछ मुद्दों पर एक आम समझ पर पहुंचने का स्वागत किया और कहा कि युद्ध जल्द से जल्द समाप्त होना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि यूक्रेनी और रूसी विदेश मंत्रियों के बीच बाद की तारीख में 'अधिक कठिन मुद्दों' पर चर्चा होने की उम्मीद थी, यह कहते हुए कि दोनों देशों के नेता बाद में मिलेंगे।

एर्दोगन और पुतिन के बीच बातचीत

रविवार को एक फोन काल में तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन और उनके रूसी समकक्ष व्लादिमीर पुतिन ने इस्तांबुल में अगले दौर की वार्ता आयोजित करने पर सहमति व्यक्त की। एर्दोगन ने दोहराया कि तुर्की इस प्रक्रिया के दौरान हर संभव तरीके से योगदान देना जारी रखेगा। विशेष रूप से यूक्रेनी और रूसी प्रतिनिधिमंडलों ने अब तक तीन दौर की व्यक्तिगत तौर पर बातचीत की है।

24 फरवरी को रूस ने यूक्रेन में एक सैन्य अभियान शुरू किया, जब डोनेट्स्क और लुहान्स्क के अलग-अलग गणराज्यों ने यूक्रेनी उकसावे के खिलाफ खुद का बचाव करने में मदद की अपील की थी। रूस के ऑपरेशन के जवाब में पश्चिमी देशों ने मास्को के खिलाफ एक व्यापक प्रतिबंध अभियान शुरू किया है।