सीएम अरविंद केजरीवाल ने राज्य चुनाव आयुक्त से कहा कि आप डरिए मत, जो भी सच है बता दीजिए, पढ़िए क्या है पूरा मामला?

 

राज्य चुनाव आयोग को सीधे पत्र लिखना और चुनाव टालने को कहना बिल्कुल गलत, लोकतंत्र के खिलाफ है।

तीनों निगमों को एक करने का फैसला भाजपा ने अपने सात आठ साल के कार्यकाल में अभी तक क्यों नहीं लिया एकाएक क्या हो गया। उन्होंने कहा कि शायद इसीलिए क्योंकि केंद्र सरकार को लग रहा है कि अभी आम आदमी पार्टी की लहर है भाजपा बुरी तरह से हार जाएगी।

नई दिल्ली  ,surender aggarwal। दिल्ली नगर निगम के चुनाव को एकाएक टाले जाने पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सवाल उठाया है। पंजाब में भारी बहुमत से विधानसभा चुनाव जीतने के बाद शुक्रवार को वो नगर निगम चुनाव मुद्दे पर आक्रामक हुए। पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा राज्य चुनाव आयोग को सीधे पत्र लिखना और चुनाव टालने को कहना बिल्कुल गलत, लोकतंत्र के खिलाफ है।

उन्होंने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से हाथ जोड़कर अपील करूंगा कि कल न मैं रहूंगा और न आप, लेकिन यह देश रहेगा, लोकतंत्र रहेगा, हमें इसकी रक्षा करनी है। उन्होंने कहा कि पता नहीं राज्य चुनाव आयुक्त को ईडी या इनकम टैक्स की क्या धमकी दी गई या फिर उन्हें पोस्ट रिटायरमेंट कोई लालच दिया गया कि वह भी चुनाव टालने को तैयार हो गए।

उन्होंने कहा कि राज्य चुनाव आयुक्त से कहा कि आप डरिए मत, जो भी सच है, बता दीजिए, पूरा देश आपके साथ है। कहा, कि तीनों निगमों को एक करने का फैसला भाजपा ने अपने सात आठ साल के कार्यकाल में अभी तक क्यों नहीं लिया, एकाएक क्या हो गया। उन्होंने कहा कि शायद इसीलिए क्योंकि केंद्र सरकार को लग रहा है कि अभी आम आदमी पार्टी की लहर है, भाजपा बुरी तरह से हार जाएगी। तीनों निगमों को एक करने का चुनाव टालने से कोई कनेक्शन नहीं, ऐसा तो चुनाव होने के बाद भी संभव है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी चुनाव होने दीजिए, इन्हें मत टालिए, चुनाव आयोग कमजोर होगा तो देश कमजोर होगा, हमें देश को मजबूत बनाना है।