ठगों ने पेशे से ज्योतिषाचार्य और वास्तु सलाहकार से कहा महंगा गिफ्ट भेज रहे आप ले लेना, ठग लिए पौने नौ लाख रुपये, पढ़िए पूरी कहानी

 

पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की।

30 हजार देने के बाद आरोपितों ने बताया कि पार्सल के साथ कुछ विदेशी मुद्रा भी है जिसके लिए उन्हें 95 हजार रुपये टैक्स और भारतीय मुद्रा में बदलने के लिए दो लाख 60 हजार रुपये देने होंगे। तीन बार में कुल तीन लाख 55 हजार रुपये भेज दिए।

नई दिल्ली, संवाददाता। विदेश से कीमती तोहफा भेजने की बात कहकर आरोपितों ने एक महिला से पौने नौ लाख रुपये ठग लिए। इसके बाद भी आरोपित पीड़िता से और रुपये की मांग करते रहे। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। अमर कालोनी निवासी शकुंतला (52) पेशे से ज्योतिषाचार्य और वास्तु सलाहकार हैं। उन्होंने आनलाइन मिले एक व्यक्ति की कुंडली देखी। उस व्यक्ति ने पीड़िता शकुंतला से इसके लिए रुपये, एक लैपटाप व कुछ गहनों सहित अन्य उपहार भेजने की बात कहकर उनका पता लिया।

पीड़िता ने इसके लिए मना किया, लेकिन आरोपितों ने कहा कि यह सारा सामान उनके पते पर भेज दिया गया है। इसके बाद दो फरवरी को पीड़िता के पास फोन आया कि उनके लिए लंदन से एक पार्सल भेजा गया है, जिसके लिए उन्हें 30 हजार रुपये कस्टम ड्यूटी का भुगतान करना होगा। 30 हजार देने के बाद आरोपितों ने बताया कि पार्सल के साथ कुछ विदेशी मुद्रा भी है, जिसके लिए उन्हें 95 हजार रुपये टैक्स और भारतीय मुद्रा में बदलने के लिए दो लाख 60 हजार रुपये देने होंगे। इसके बाद पीड़िता ने आरोपितों के खाते में तीन बार में कुल तीन लाख 55 हजार रुपये भेज दिए। इसके बाद आरोपितों ने फ्लाइट से सारा सामान पीड़िता के पास भेजने का आश्वासन दिया।

अगले दिन आरोपितों ने कहा कि पार्सल में ज्यादा ज्वेलरी होने के नाते पांच लाख 60 हजार रुपये और देने होंगे, नहीं तो सामान एयरपोर्ट पर ही जब्त कर लिया जाएगा। इस पर पीड़िता ने आरोपितों को अपनी पैसों की परेशानी बताई तो आरोपित पांच लाख में ही उनका काम कराने के लिए तैयार हो गए। पीड़िता ने आरोपितों के खाते में पांच लाख रुपये और भेज दिए। रुपये मिलने के बाद आरोपितों ने बताया कि पीड़िता का पार्सल फ्लाइट छूट जाने की वजह से सड़क मार्ग से भेजा गया, लेकिन सामान को राजस्थान की एक चौकी पर रोक लिया गया। पुलिस वाले इसके बदले साढ़े 13 लाख रुपये की मांग कर रहे हैं।

इसके बाद पीड़िता को शक हुआ तो उन्होंने पैसे देने से मना कर दिया और आरोपित नेल्सन को फोन कर पार्सल नंबर मांगा। फिर नेल्सन ने हार्ट अटैक का बहाना बनाकर अस्पताल में भर्ती होने की बात कही और बात को टाल दिया। तब पीड़िता को उनकी गलती का अहसास हुआ और उन्होंने मामले की शिकायत साइबर थाने में दर्ज कराई।