अमित शाह की मौजूदगी में योगी आदित्यनाथ चुने गए भाजपा विधायक दल के नेता, कल होगी सीएम पद की शपथ

 

BJP Alliance Legislatures Meeting: भाजपा के 255, अपना दल (एस) के 12 तथा निषाद पार्टी के छह विधायक भी रहेंगे।

UP BJP Alliance Legislatures Meeting 2022 लोकभवन में भाजपा तथा सहयोगी दल के विधायक एकत्र हो रहे हैं। यह लोग शपथ ग्रहण समारोह के लिए अपने पास एकत्र करने के साथ लोकभवन में विधायक दल की बैठक की तैयारी कर रहे हैं।

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी योगी आदित्यनाथ को लगातार दूसरी बार उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बना रही है। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को प्रचंड बहुमत मिलने के बाद 37 वर्ष बाद प्रदेश में किसी एक दल की सरकार की लगातार दूसरी बार ताजपोशी होगी।

भारतीय जनता पार्टी के पर्यवेक्षक अमित शाह के साथ सह पर्यवेक्षक रघुवर दास लखनऊ पहुंचे। भाजपा कार्यालय में कोर कमेटी की बैठक के बाद शाह के साथ रघुवर दास लोक भवन पहुंचे जहां पर योगी आदित्यनाथ को भाजपा विधायक दल का नेता चुना गया। योगी आदित्यनाथ के नाम का प्रस्ताव भाजपा के वरिष्ठ विधायक सुरेश कुमार खन्ना ने किया। उस प्रस्ताव पर सभी ने मुहर लगा दी।अमित शाह के साथ इस दौरान राधा मोहन सिंह, धर्मेन्द्र प्रधान भी थे। भाजपा उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के साथ डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य व डा. दिनेश शर्मा ने भी करतल ध्वनि से भाजपा विधायकों के चयन का स्वागत किया। भाजपा विधायक दल के नेता के चुनाव से पहले अमित शाह ने सभी विधायकों को संबोधित किया। इससे पहले सुरेश कुमार खन्ना ने भाजपा विधायक दल के नेता के लिए योगी आदित्यनाथ के नाम का प्रस्ताव रखा। योगी आदित्यनाथ पहली बार विधानसभा में पहुंचे हैं। वह गोरखपुर शहर से विधायक चुने गए हैं।

लोकभवन में भाजपा विधायक दल की बैठक से पहले अमित शाह ने लखनऊ में भाजपा कार्यालय में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, राष्ट्रीय महामंत्री संगठन बीएल संतोष, उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के प्रभारी धर्मेन्द्र प्रधान ने बैठक की। इस दौरान राधा मोहन सिंह,योगी आदित्यनाथ, स्वतंत्रत देव, सुनील बंसल मौजूद भी मौजूद थे। अमित शाह भाजपा विधायक दल की बैठक के बाद आज रात ही नई दिल्ली वापस लौटेंगे।

माना जा रहा है कि इस बैठक में प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार 2.0 के दूसरे कार्यकाल के शपथ से पहले कुछ संभावित मंत्रियों के नाम पर चर्चा हुई। अब तो लग रहा है कि केशव प्रसाद मौर्य तथा डा. दिनेश शर्मा प्रदेश के उप मुख्यमंत्री के पद पर बरकरार रहेंगे। सुरेश कुमार खन्ना को विधानसभा अध्यक्ष स्पीकर बनाया जा सकता है। इस पद के लिए सूर्य प्रताप शाही का भी नाम सामने लाया सकता है। बेबी रानी मौर्य, महेन्द्र सिंह, नंद गोपाल गुप्ता नंदी भी कैबिनेट मंत्री बनेंगे।

jagran

इससे पहले लखनऊ पहुंचे अमित शाह का एयरपोर्ट पर जोरदार स्वागत किया गया। गृह मंत्री अमौसी एयरपोर्ट से सीधे भारतीय जनता पार्टी के कार्यालय पहुंचे। यहां से वह लोकभवन जाएंगे, जहां थोड़ी ही देर में व‍िधायक दल की बैठक शुरू होगी। 

jagran

लोकभवन में भाजपा तथा सहयोगी दल के विधायक एकत्र थे। यह लोग शपथ ग्रहण समारोह के लिए अपने पास एकत्र करने के साथ लोकभवन में विधायक दल की बैठक की तैयारी कर थे। सुरेश खन्ना और चार अन्य मंत्रियों को यह जिम्मेदारी दी गई है। विधायक दल की बैठक में सीएम योगी आदित्यनाथ को सर्वसम्मति से भाजपा विधायक दल का नेता चुना। उनके नाम के प्रस्तावक की प्रक्रिया में 15 वरिष्ठ विधायक शामिल थे।

प्रस्ताव और दस्तखत के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ राजभवन जाकर सरकार बनाने का दावा पेश करने के साथ राज्यपाल को नेता बनाए जाने का पत्र सौंपेंगे। भाजपा विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद योगी आदित्यनाथ शाम को करीब पांच बजे राजभवन जाकर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के समक्ष 273 विधायकों के समर्थन से सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे।

उत्तर प्रदेश में 37 वर्ष बाद सत्ता में वापसी का इतिहास रचने वाले योगी आदित्यनाथ के ही हाथ में दोबारा सत्ता की कमान होगी। विधानसभा चुनाव मुख्यमंत्री योगी के चेहरे पर लड़ा गया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कई बार चुनावी मंचों से 'आएंगे तो योगी ही' और 'योगी ही उपयोगी' जैसा नारा देकर स्पष्ट संदेश दे चुके थे कि भाजपा दोबारा सरकार बनाती है तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ही होंगे। संगठन की शक्ति और अमित शाह की रणनीति के साथ मोदी-योगी की जोड़ी ने विपक्षी मंसूबों को ढेर कर अकेले 255 व गठबंधन सहयोगियों के साथ 273 सीटें जीत लीं। ऐसा प्रदेश की राजनीति में 37 वर्ष बाद हो रहा है कि पांच वर्ष का कार्यकाल पूरा करने के बाद किसी दल की सरकार फिर पूर्ण बहुमत के साथ बन रही है।