गलत निकला रूस का दावा, विदेश मंत्रालय ने कहा- यूक्रेन में भारतीय छात्रों को नहीं बनाया गया बंधक

 

यूक्रेन में भारतीय छात्र नहीं बनाए गए बंधक (फोटो- एएनआई)

Russia Ukraine War विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि यूक्रेन में किसी भी भारतीय छात्र को बंधक बनाए जाने की जानकारी नहीं है। विदेश मंत्रालय ने स्पष्टीकरण जारी कर कहा कि यूक्रेन में भारतीय छात्रों को बंधक बनाए जाने की कोई रिपोर्ट नहीं मिली है।

नई दिल्ली, रूस और यूक्रेन की बीच युद्ध का आज आठवां दिन है। यूक्रेन में जारी युद्ध के बीच रूस ने दावा किया था कि यहां कुछ भारतीय छात्रों को बंधक बनाया गया है। हालांकि, कुछ ही घंटे बाद रूस का दावा गलत निकला है। विदेश मंत्रालय ने यूक्रेन में भारतीय छात्रों को बंधक बनाए जाने की खबरों को लेकर बड़ी जानकारी दी है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि यूक्रेन में भारतीय छात्रों को बंधक बनाये जाने की कोई खबर नहीं है। सरकार ने गुरुवार को कहा कि यूक्रेन में भारतीय दूतावास अपने फंसे हुए नागरिकों के साथ लगातार संपर्क में है। सरकार को युद्ध प्रभावित यूक्रेन में भारतीय छात्रों को बंधक बनाए जाने की कोई रिपोर्ट नहीं मिली है।

बता दें कि बुधवार को रूसी दूतावास ने दावा किया था कि यूक्रेनी सेना ने भारतीय छात्रों को मानव ढाल के रूप में इस्तेमाल करने के लिए बंधक बना लिया गया है। रूस के दावे के बाद विदेश मंत्रालय ने स्पष्टीकरण जारी किया है। अरिंदम बागची ने बताया कि यूक्रेन के अधिकारियों के सहयोग से कई छात्र कल खारकीव से चले गए।बागची ने आगे कहा, 'हमें किसी भी छात्र को बंधक बनाए जाने की कोई रिपोर्ट नहीं मिली है। हमने खारकीव और पड़ोसी क्षेत्रों से देश के पश्चिमी हिस्से में छात्रों को निकालने के लिए विशेष ट्रेनों की व्यवस्था करने में यूक्रेनी अधिकारियों के समर्थन का अनुरोध किया है।'

रूसी दूतावास ने किया था दावा

गौरतलब है कि भारत में रूसी दूतावास ने भारतीय छात्रों को बंधक बनाए जाने का गलत दावा किया था। दूतावास ने कहा था कि ताजा जानकारी के अनुसार, भारतीय छात्रों को यूक्रेनी सुरक्षा बलों द्वारा बंधक बना लिया गया है और उन्हें मानव ढाल के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है।