चित्रा केस: राउज एवेन्यू कोर्ट ने सीबीआइ से दो सप्ताह में मांगा जवाब

 

राउज एवेन्यू कोर्ट ने सीबीआइ से दो सप्ताह में मांगा जवाब

सीबीआइ ने निचली अदालत द्वारा अग्रिम जमानत याचिका खारिज करने के बाद गत रविवार को रामकृष्ण को गिरफ्तार कर लिया था। वहीं 24 मार्च को अदालत ने एनएसई के पूर्व समूह संचालन अधिकारी आनंद सुब्रमण्यम की जमानत याचिका खारिज कर दी थी।

नई दिल्ली संवाददाता। मामले में नेशनल स्टाक एक्सचेंज (एनएसई) की पूर्व प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) चित्रा रामकृष्ण की जमानत याचिका पर राउज एवेन्यू कोर्ट ने केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआइ) से दो सप्ताह में जवाब मांगा है। विशेष न्यायाधीश संजीव अग्रवाल ने इसे लेकर एजेंसी को नोटिस जारी कर सुनवाई आठ अप्रैल तक के लिए स्थगित कर दी। रामकृष्ण ने जमानत अर्जी में दावा किया है कि उनसे आगे पूछताछ की जरूरत नहीं है।

सीबीआइ ने निचली अदालत द्वारा अग्रिम जमानत याचिका खारिज करने के बाद गत रविवार को रामकृष्ण को गिरफ्तार कर लिया था। वहीं, 24 मार्च को अदालत ने एनएसई के पूर्व समूह संचालन अधिकारी आनंद सुब्रमण्यम की जमानत याचिका खारिज कर दी थी। सीबीआइ ने हाल ही में इस मामले में रामकृष्ण से पूछताछ की थी। आयकर (आइटी) विभाग ने इससे पहले मुंबई और चेन्नई में उससे जुड़े विभिन्न परिसरों पर छापा मारा था।

एनएसई को-लोकेशन घोटाले के मामले में एफआइआर मई 2018 में दर्ज की गई थी। सीबीआइ मार्केट एक्सचेंजों के कंप्यूटर सर्वर से स्टाक ब्रोकरों को सूचना के अनुचित प्रसार की जांच कर रही है। इससे पहले भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने वरिष्ठ स्तर पर भर्ती में चूक के लिए रामकृष्ण और रवि नारायण समेत दो अन्य अधिकारियों को दंडित किया था। नारायण अप्रैल 1994 से मार्च 2013 तक एनएसई के एमडी और सीईओ थे, जबकि रामकृष्ण अप्रैल 2013 से दिसंबर 2016 तक एनएसई के एमडी और सीईओ थी।