यूक्रेन के सशस्त्र बलों की युद्ध क्षमता काफी कम हो गई है: रूसी जनरल स्टाफ मुख्य

 

रूस-यूक्रेन के बीच युद्ध को लगभग एक महीने होने जा रहे हैं

Ukraine Russia War यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने रूस के साथ बातचीत पर जोर दिया है। जबकि रूसी जनरल स्टाफ के मुख्य के प्रमुख सर्गेई रुडस्कोय ने संचालन निदेशालय में कहा कि यूक्रेन के सशस्त्र बलों की युद्ध क्षमता काफी कम हो गई है।

मारियुपोली, यूक्रेन। रूस-यूक्रेन के बीच युद्ध को लगभग एक महीने होने जा रहे हैं। रूसी सैन्य हमला यूक्रेन में दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है। रूसी सेना तेजी से यूक्रेन में अपना पैर पसार के रही है। वहीं इस बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने रूस के साथ आगे की बातचीत पर जोर दिया है। बता दें कि ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि मास्को ने इस बात का संकेत दिया है कि वह पूर्व में रूसी समर्थित अलगाववादियों ने दावा किए गए क्षेत्र पर अपना कम ध्यान दे रहा है। इसका कारण यह है कि अन्य जगहों पर हमले रुके हुए हैं।

रूसी रक्षा मंत्रालय ने की घोषणा

रूसी रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को एक घोषणा में कहा कि उसके आपरेशन का पहला चरण ज्यादातर पूरा हो गया था और अब यह रूस की सीमा से लगे डोनबास क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित करेगा, जिसमें मास्को समर्थक अलगाववादी एन्क्लेव हैं।

रूसी जनरल स्टाफ के मुख्य के प्रमुख सर्गेई रुडस्कोय ने संचालन निदेशालय में कहा, 'यूक्रेन के सशस्त्र बलों की युद्ध क्षमता काफी कम हो गई है, जो मुख्य लक्ष्य, डोनबास की मुक्ति को प्राप्त करने के लिए हमारे मुख्य प्रयासों पर ध्यान केंद्रित करना संभव बनाता है।'

आपको बता दें कि 2014 के बाद से रूसी समर्थित सेनाएं डोनबास और आसपास के लुहान्स्क क्षेत्र में यूक्रेनी सेना से लड़ रही हैं। उन्होंने 24 फरवरी के आक्रमण से ठीक पहले मास्को के आशीर्वाद के साथ स्वतंत्रता की घोषणा की लेकिन पश्चिम द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं हुई।

मास्को ने कहा था कि जिन लक्ष्यों को वह अपना 'विशेष अभियान' कहते हैं, उनमें अपने पड़ोसी को विसैन्यीकरण और 'निंदा' करना शामिल है। पश्चिमी अधिकारियों ने इसे युद्ध के लिए एक निराधार बहाने के रूप में खारिज कर दिया, वे कहते हैं कि इसका उद्देश्य राष्ट्रपति जेलेंस्की की सरकार को गिराना है।

हफ्तों से चल रही शांति वार्ता महत्वपूर्ण प्रगति करने में विफल रही है। शुक्रवार देर रात एक वीडियो संबोधन में राष्ट्रपति जेलेंस्की ने कहा कि उनके सैनिकों के प्रतिरोध ने रूस को 'शक्तिशाली प्रहार' किया ।

राष्ट्रपति जेलेंस्की ने कहा, 'हमारे रक्षक रूसी नेतृत्व को एक सरल और तार्किक विचार की ओर ले जा रहे हैं। हमें बात करनी चाहिए, सार्थक, तत्काल और निष्पक्ष रूप से बात करनी चाहिए।'