पत्नी के जननांग पूर्ण रूप से विकसित नहीं होने के कारण पति ने लगाई विवाह शून्य करने का आवेदन

 

पत्नी के जननांग पूर्ण रूप से विकसित नहीं होने के कारण पति ने लगाई विवाह शून्य करने का आवेदन

डाक्टर ने कहा कि उसकी पत्नी के जननांग पूर्ण रूप से विकसित नहीं है। उसके बाद पत्नी ने पूरी सच्चाई बताई कि आपरेशन से जननांग विकसित कराए हैं। पति ने विवाह शून्य करने के लिए आवेदन लगाया है। विवाह को एक धोखा बताया है।

ग्वालियर। मध्यप्रदेश के ग्वालियर न्यायालय में एक पति ने अपनी पत्नी की मेडिकल जांच की गुहार लगाई है। पति का आरोप है कि वह उसमें पुरुष जैसे लक्षण हैं। डाक्टर ने कहा कि उसकी पत्नी के जननांग पूर्ण रूप से विकसित नहीं है। पति ने विवाह शून्य करने के लिए आवेदन लगाया है। विवाह को एक धोखा बताया है। पत्नी इसका विरोध कर रही है। पति के आरोप झूठे हैं, वह साथ रहना चाहती है। विवाह शून्य का आवेदन खारिज किया जाए। उसने अपने जननांग आपरेशन बनवाये हैं। इसलिए तीन बिंदुओं पर मेडिकल जांच कराई जाए। क्या वह मां बन सकती है। दापंत्य संबंध स्थापित कर सकती है। कोर्ट में इस आवेदन पर फैसला सुरक्षित था। शुक्रवार को कोर्ट ने आदेश दिया कि महिला 10 मई तक मेडिकल जांच कराए। मेडिकल रिपोर्ट के बाद ही उसके भरण पोषण पर विचार होगा।जानकारी के अनुसार, ग्वालियर निवासी महेंद्र (परिवर्तित नाम) के पिता का स्वास्थ्य खराब हो गया था। पिता ने अपने स्वास्थ्य को देखते हुए महेंद्र का विवाह कराने की इच्छा जाहिर की। जब उसके पिता स्वास्थ लाभ ले रहे थे, तभी भिंड से उसके घर रिश्ता आया। लड़की के घरवालाें ने बताया कि उनकी बेटी गृह कार्य में दक्ष है और घर को अच्छे चलाएगी। दोनों पक्षों में बातचीत होने के बाद रिश्ता तय हो गया। जुलाई 2014 में महेंद्र का विवाह हो गया था। विवाह के कुछ माह तक दोनों के बीच दांपत्य संबंध नहीं बने। उसकी पत्नी पहली बार ससुराल से विदा होकर मायके चली गई। इसी बीच पिता का निधन हो गया और महेंद्र फिर से पत्नी को लेकर घर आ गया। लंबे समय के बाद दोनों के बीच दांपत्य संबंध बने, जिसके बाद पत्नी को काफी पीड़ा हुई। इसके बाद महेंद्र अपनी पत्नी काे स्त्री राेग विशेषज्ञ के पास लेकर पहुंचा। डाक्टर ने अल्ट्रासाउंड भी कराया। डाक्टर ने जांच के बाद उसकी पत्नी को स्त्री नहीं बताया।

वहीं, डाक्टर ने कहा कि उसकी पत्नी के जननांग पूर्ण रूप से विकसित नहीं है। उसके बाद पत्नी ने पूरी सच्चाई बताई कि आपरेशन से जननांग विकसित कराए हैं। पति ने विवाह शून्य करने के लिए आवेदन लगाया है। विवाह को एक धोखा बताया है। पत्नी ने इसका विरोध कर रही है। पति के आरोप झूठे हैं, वह साथ रहना चाहती है। विवाह शून्य का आवेदन खारिज किया जाए। पति दुबारा मेडिकल जांच की गुहार लगाई है। शुक्रवार को कोर्ट ने आदेश दिया कि महिला 10 मई तक मेडिकल जांच कराए। मेडिकल रिपोर्ट के बाद ही उसके भरण पोषण पर विचार होगा।