पाकिस्तान के इलाके में गलती से जा गिरी मिसाइल पर भारत ने जताया खेद, रक्षा मंत्रालय ने कोर्ट आफ इंक्वायरी का भी दिया आदेश

 

मिसाइल के गिरने से किसी जानमाल का नहीं हुआ था नुकसान

गलती से पाकिस्तान के इलाके में जा गिरी भारतीय मिसाइल को लेकर सरकार ने इस पर खेद जताया है। साथ ही रक्षा मंत्रालय ने कहा कि भारत सरकार ने इसे गंभीरता से लिया है और उच्च स्तरीय कोर्ट आफ इंक्वायरी का आदेश दिया है।

नई दिल्ली, एएनआइ। पाकिस्तानी सेना ने गुरुवार को दावा किया था कि उसके पंजाब प्रांत के खानेवाल जिले के मियां चन्नू इलाके में भारत से एक मिसाइल आकर गिरी थी। इस पर अब भारत की ओर से प्रतिक्रिया दी गई है। भारत ने शुक्रवार को स्वीकार किया कि एक मिसाइल गलती से एक सैन्य अड्डे से दागी गई, जो कि गलती से पाकिस्तान के इलाके में जा गिरी। इस पर रक्षा मंत्रालय ने खेद व्यक्त किया है।

पाकिस्तानी सेना ने कल एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि एक भारतीय मिसाइल पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र में घुस आई थी। यह मिसाइल उनके क्षेत्र में मियां चन्नू नामक स्थान के पास गिरने के बाद आसपास के क्षेत्रों को कुछ नुकसान पहुंचाया था। 

रखरखाव के दौरान एक तकनीकी खराबी के कारण मिसाइल हो गई थी फायर

वहीं, आज इस पर भारतीय रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उसने घटना की कोर्ट आफ इंक्वायरी का आदेश दिया है और कहा कि यह राहत की बात है कि अचानक गिरी मिसाइल के कारण जानमाल का नुकसान नहीं हुआ है। साथ ही बताया कि 9 मार्च 2022 को नियमित रखरखाव के दौरान एक तकनीकी खराबी के कारण मिसाइल अचानक से फायर हो गई और वह पाकिस्तान के क्षेत्र में जा गिरी।

उच्च स्तरीय कोर्ट आफ इंक्वायरी का दिया आदेश

रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि भारत सरकार ने इसे गंभीरता से लिया है और उच्च स्तरीय कोर्ट आफ इंक्वायरी का आदेश दिया है। बयान में कहा गया कि यह पता चला है कि मिसाइल पाकिस्तान के एक इलाके में गिरी थी। यह घटना बेहद खेदजनक है, लेकिन यह भी राहत की बात है कि दुर्घटना में किसी की जान नहीं गई है।

पाकिस्तान ने भारत से मांगा था स्पष्टीकरण

बता दें कि इस घटना को लेकर पाकिस्तान ने दावा किया था कि मिसाइल ने पाकिस्तान और भारत दोनों में नागरिकों को खतरे में डाल दिया है। इस मामले में पाकिस्तान ने भारत से स्पष्टीकरण मांगा था। साथ मिसाइल दागने का कारण भी पूछा था।