सुप्रीम कोर्ट ने अदालतों को चेताया- शार्ट कट न अपनाएं, सभी मुद्दों पर बताएं अपने निष्कर्ष

 

बेंगलुरु की कृषि उपज विपणन समिति द्वारा दाखिल अपीलों पर सुनवाई के दौरान कोर्ट ने दी ये टिप्पणी

शीर्ष अदालत ने ये महत्वपूर्ण टिप्पणियां बेंगलुरु की कृषि उपज विपणन समिति द्वारा दाखिल अपीलों पर सुनवाई के दौरान कीं। इसमें कर्नाटक हाई कोर्ट की खंडपीठों द्वारा एक मामले में भू अधिग्रहण कार्यवाहियों को खारिज किए जाने के फैसलों को चुनौती दी गई है।

नई दिल्ली, प्रेट्र। सुप्रीम कोर्ट ने मामलों का फैसला करने में शार्ट कट रुख अपनाने के प्रति मंगलवार को अदालतों को चेताया। शीर्ष अदालत ने उनसे कहा कि वे सभी मुद्दों पर अपने निष्कर्ष बताएं क्योंकि कुछ सवाल अनिर्णीत छोड़ने से अपीलीय अदालतों पर बोझ बढ़ता है और पुन: फैसला करने की जरूरत पड़ती है। शीर्ष अदालत ने ये महत्वपूर्ण टिप्पणियां बेंगलुरु की कृषि उपज विपणन समिति द्वारा दाखिल अपीलों पर सुनवाई के दौरान कीं। इसमें कर्नाटक हाई कोर्ट की खंडपीठों द्वारा एक मामले में भू अधिग्रहण कार्यवाहियों को खारिज किए जाने के फैसलों को चुनौती दी गई है।

गोली के रूप में लौह अयस्क के निर्यात में शुल्क चोरी के आरोप पर होगी सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को उन दो जनहित याचिकाओं पर अगले हफ्ते सुनवाई करने के लिए तैयार हो गया जिनमें कुछ कंपनियों द्वारा चीन जैसे देशों को गोली की शक्ल में लौह अयस्कों के निर्यात में शुल्क चोरी का आरोप लगाया गया है। प्रधान न्यायाधीश एनवी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने एक याचिकाकर्ता व अधिवक्ता एमएल शर्मा की उस दलील पर संज्ञान लिया कि याचिका पर तत्काल सुनवाई की जरूरत है क्योंकि यह लगातार शुल्क चोरी से जुड़ी है। दूसरी याचिका गैर सरकारी संगठन 'कामन काज' ने दायर की है।

मुल्लापेरियार बांध मामले पर सुनवाई टली

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को केरल और तमिलनाडु के बीच मुल्लापेरियार बांध विवाद पर सुनवाई स्थगित कर दी। जस्टिस एएम खानविलकर की अध्यक्षता वाली पीठ अब बुधवार को मामले पर सुनवाई करेगी। दरअसल, तमिलनाडु सरकार के अधिवक्ता ने सूचित किया था कि केरल ने नए हलफनामे दाखिल किए हैं और इसलिए तमिलनाडु सरकार ने स्थगन की मांग की।