यूक्रेन के बिगड़ते हालात पर जयशंकर ने फ्रांस, एस्टोनिया व EU में अपने समकक्षों से की बात

 

यूक्रेन के बिगड़ते हालात पर जयशंकर ने फ्रांस, एस्टोनिया व EU में अपने समकक्षों से की बात

यूक्रेन में जारी रूसी हमलों से वहां के हालात बिगड़ते जा रहे हैं। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने इस मुद्दे पर यूरोपीयन यूनियन (EU) के विदेश नीति के प्रमुख जोसेप बोरेल फ्रांस के विदेश मंत्री जेवाइ ले ड्रायन और एस्टोनिया के विदेश मंत्री एलिमेट्स से चर्चा की।

 नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। यूक्रेन में जारी रूसी हमलों से वहां के हालात बिगड़ते जा रहे हैं। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने इस मुद्दे पर यूरोपीयन यूनियन (EU) के विदेश नीति के प्रमुख जोसेप बोरेल, फ्रांस के विदेश मंत्री जेवाइ ले ड्रायन और एस्टोनिया के विदेश मंत्री एलिमेट्स से चर्चा की। वार्ता के दौरान विदेश मंत्री ने भारत के पक्ष को दोहराया और कहा कि कूटनीति और वार्ता ही इसका एकमात्र जवाब है। हिंसा को खत्म करना ही तत्काल जरूरत है।

अब तक 3000 से अधिक भारतीयों की हुई वतन वापसी 

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बताया कि हंगरी, रोमानिया, स्लोवाकिया और पोलैंड से आज नौ उड़ानें भरी गईं जिसमें भारतीय वायु सेना का भी जहाज शामिल है। 6 हवाई जहाजों की जल्द उड़ान भरने की उम्मीद है। अब तक 3,000 से अधिक भारतीय नागरिकों को वापस लाया गया है। 

पिछले सप्ताह यूरोपीय संघ ने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर हिन्द-प्रशांत क्षेत्र में रक्षा, सुरक्षा गतिविधियां बढ़ाने का संकल्प लिया है और उत्तरी-पश्चिमी हिन्द महासागर में समन्वित समुद्री उपस्थिति को विस्तार देने की घोषणा की है। पेरिस में हुई मंत्रिस्तरीय बैठक के बाद 27 सदस्यीय यूरोपीय संघ ने हिन्द-प्रशांत क्षेत्र पर अपनी रणनीति की घोषणा की है। इस बैठक में विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने भी हिस्सा लिया था। यूरोपीय संघ ने कहा कि हिन्द-प्रशांत क्षेत्र में सहयोग के लिए मंत्रिस्तरीय मंच ने यूरोप और हिन्द-प्रशांत क्षेत्र में शांति, समृद्धि और समावेशी विकास के लिए साझा महत्वाकांक्षाओं के बारे में बताय

ा।