गर्मी को लेकर दिल्ली समेत उत्तर भारत के करोड़ों लोगों के लिए IMD का ताजा अलर्ट

 

पढ़िये- गर्मी को लेकर दिल्ली समेत उत्तर भारत के करोड़ों लोगों के लिए IMD का ताजा अलर्ट

Delhi Weather News Forecast दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में इस बार गर्मी खूब परेशान करेगी। इस बार भीषण गर्मी के साथ तापमान भी लोगों के लिए परेशानी का सबब बनेगा। लोगों को लू का भी सामना करना पड़ेगा।

नई दिल्ली, डिजिटल डेस्क। सुबह और शाम की ठंड को छोड़ दें तो गर्मी दिल्ली-एनसीआर समेत समूचे उत्तर भारत में दस्तक दे चुकी है। मार्च के महीने में अब लगातार ठंड कम होगी और न्यूनतम और अधिकतम तापमान में इजाफा होने के साथ गर्मी में भी बढ़ोतरी होगी। इस साल होने वाली गर्मी को लेकर भारतीय मौसम विभाग पहले ही पूर्वानुमान जता चुका है। इसके मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर में इस साल जबरदस्त गर्मी होगी। मार्च महीने के अंत तक गर्मी लोगों के पसीने छुड़ाना शुरू कर देगी।

सामान्य से अधिक गर्मी पड़ेगी दिल्ली-एनसीआर में

मौसम विभाग के ताजा पूर्वानुमान के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर में फिलहाल सुबह और शाम को ठंड होती है, लेकिन दिन चढ़ने के साथ गर्मी बढ़ती जाती है। घरों में अब हल्की गति में पंखा चलाने की नौबत भी आने लगी है तो दफ्तरों में एसी भी चलाया जाने लगा है। बुधवार को अन्य दिनों की तुलना में अधिक गर्मी महसूस की गई। इस बीच बुधवार रात को और बृहस्पतिवार को दिन में बारिश होने के आसार हैं, लेकिन इससे गर्मी बढ़ने की रफ्तार नहीं थमेगी। मार्च महीने के अंत तक दिल्ली-एनसीआर में ठीकठाक गर्मी पढ़ने लगेगी। इसके बाद मई और जून के महीने में भीषण गर्मी पड़ सकती है। इस दौरान लोगों को लू का भी सामना करना पड़ेगा। मौसम विभाग ने इसको लेकर पिछले महीने ही पूर्वानुमान जता दिया था। 

मई में लू से हो सकता है सामना

मौसम विभाग के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर और पश्चिम भारत के साथ-साथ उत्तर-पूर्व भारत में भी मार्च और मई महीने में सामान्य से अधिक गर्म होने की संभावना है। इस दौरान तेज धूप के गर्म हवाएं भी परेशान करेंगी। मौसम विभाग के मुताबिक, इस बार होली त्योहार यानी 18 मार्च तक दिल्ली-एनसीआर में पसीने छुड़ाने वाली गर्मी होगी। मार्च के अंत तक अधिकतम तापमान 32 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच सकता है।

इस बार होने वाली गर्मी को लेकर स्काईमेट वेदर के उपाध्यक्ष महेश पलावत का कहना है कि जलवायु परिवर्तन के असर से पिछले साल मानसून आगे बढ़ा और फिर रिकार्ड बारिश हुई। वहीं, इस साल जनवरी महीने ठिठुरन भरी ठंड ने भी नए रिकार्ड बनाए। यही वजह है कि मार्च में अच्छी गर्मी पड़ना भी अब तय है। जलवायु परिवर्तन के प्रभाव के चलते इस साल अप्रैल, मई और जून में भीषण गर्मी का सामना करना पड़ सकता है। इस दौरान पिछले कई साल के गर्मी के रिकार्ड भी टूट भी सकते हैं।

अल नीनो भी बढ़ाएगा लोगों की परेशानी

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के महानिदेशक एम. महापात्रा के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत में इस साल दिन का तापमान सामान्य से अधिक रहने के आसार हैं। अल नीनो के दौरान हीट वेव अधिक तेज होती है, जिसका असर इस साल भी रहेगा। मौसम विज्ञानियों के अनुसार, अल नीनो और ला नीना का संबंध प्रशांत महासागर की समुद्री सतह के तापमान में होने वाले परिवर्तन से है। जब इस क्षेत्र में समुद्री सतह का तापमान सामान्य से नीचे होता है तो इस स्थिति को ला-नीना कहते हैं, वहीं अल नीनो की वजह से तापमान गर्म हो जाता है। अल नीनो की वजह से इस बार दिल्ली-एनसीआर में गर्मी बढ़ेगी।