नोडल अधिकारी रोकेंगे दिल्ली के 13 'हाट स्पाट' का प्रदूषण

 

नोडल अधिकारी रोकेंगे दिल्ली के 13 'हाट स्पाट' का प्रदूषण

Delhi pollution News देश की राजधानी में वायु प्रदूषण का नासूर बने हाट स्पाट अब नोडल अधिकारियों के जिम्मे होंगे। अगली सर्दियों का सीजन आने से पहले इन अधिकारियों को समस्या के कारण और निवारण दोनों ढूंढने होंगे।

नई दिल्ली Anuradha Aggarwal । देश की राजधानी में वायु प्रदूषण का नासूर बने हाट स्पाट अब नोडल अधिकारियों के जिम्मे होंगे। अगली सर्दियों का सीजन आने से पहले इन अधिकारियों को समस्या के कारण और निवारण दोनों ढूंढने होंगे। चूंकि अधिकारियों की जवाबदेही तय कर दी गई है, अत: हीलाहवाली पर उनके खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी।गौरतलब है कि यूं तो दिल्ली में सामान्य तौर पर भी प्रदूषण का स्तर निर्धारित मानकों से ज्यादा ही रहता है। लेकिन, सर्दियों के सीजन में हालात ज्यादा खराब हो जाते हैं। खासतौर पर अक्टूबर से फरवरी माह के दौरान दिल्ली वासियों को सबसे अधिक प्रदूषण का सामना करना पड़ता है। प्रदूषण की रोकथाम के लिए ही तकरीबन तीन साल पहले दिल्ली में 13 ऐसी जगहों की पहचान की गई थी, जहां सबसे ज्यादा प्रदूषण रहता है। हर साल जाड़े में प्रदूषण के इन हाट स्पाट के लिए विशेष योजना बनाई जाती है।

अब यह बात अलग है कि अभी तक यहां पर वायु गुणवत्ता सुधारने में कोई खास सफलता नहीं मिली है। इसीलिए दिल्ली सरकार के पर्यावरण विभाग ने अब इन 13 जगहों के लिए अलग- अलग नोडल अधिकारियों की तैनाती की है। दरअसल, इन जगहों पर प्रदूषण के कारक भी एक समान नहीं बल्कि अलग-अलग हैं।

ऐसे में प्रदूषण को थामने की जिम्मेदारी भी अलग-अलग विभागों की ही बनती हैं। कुछ काम दिल्ली राज्य औद्योगिक एवं ढांचागत विकास निगम (डीएसआइआइडीसी) को करना है तो कुछ काम केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्लूडी) या दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) को। इसी तरह दिल्ली नगर निगम और अन्य विभागों की भी जिम्मेदारी बनती है। लेकिन इन विभागों में आपसी तालमेल न होने के कारण समस्या वहीं की वहीं बनी रहती है। इन्हीं सब व्यवहारिक परेशानियों को देखते हुए इन हाट स्पाट वाले इलाकों के लिए अब संबंधित निगम के उपायुक्त स्तर के अधिकारी को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। ऐसा इसलिए ताकि यह अधिकारी सभी संबंधित विभागों के साथ तालमेल स्थापित कर वायु प्रदूषण के स्त्रोत भी पता कर सकें और पुख्ता कार्ययोजना बनाकर इन स्त्रोतों को समाप्त भी कर सकें। पर्यावरण विभाग के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक सर्दियों की दस्तक से पहले इन सभी नोडल अधिकारियों को प्रदूषण के हाट स्पाट खत्म करने होंगे।