पुणे पुलिस ने आईपीएल सट्टेबाजी रैकेट का किया भंडाफोड़, 27 लाख रुपये किए जब्त

 

शनिवार रात कालेवाड़ी में सट्टेबाजी रैकेट का भंडा फोड़ा गया

गुजरात और दिल्ली के बीच खेले जा रहे मैच पर लगी बेटिंग का पुलिस ने भंडाफोड़ कर दिया है। आईपीएल क्रिकेट मैच दौरान सट्टेबाज का पर्दाफाश करते हुए शातिर बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। ‌इस छापेमारी में सवा 27 लाख रुपये की नकदी बरामद की गई है।

पुणे, एएनआइ। आईपीएल (IPL) क्रिकेट मैच के दौरान पिंपरी चिंचवाड़ में बेटिंग लगाने वाले एक बड़े रैकेट का पर्दाफाश हुआ है। पुणे में आईपीएल मैच में सट्टेबाजी के लिए चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया और 27 लाख रुपये नकद जब्त किए गए हैं। इस बात की जानकारी पुणे की पिंपरी चिंचवाड़ पुलिस ने दी।

पुलिस ने कहा

पुलिस के अनुसार, शनिवार रात कालेवाड़ी में सट्टेबाजी रैकेट का भंडा फोड़ा गया और रविवार को इस मामले में प्राथमिकी दर्ज की गई। पुलिस ने बताया कि आरोपी दिल्ली कैपिटल्स और गुजरात टाइटंस के बीच शनिवार को पुणे के एमसीए स्टेडियम में खेले जा रहे मैच में सट्टा लगा रहे थे। उसी वक्त इन सट्टेबाजों की सूचना पुलिस को लगी। इस छापेमारी में पुलिस ने सवा 27 लाख रुपये की नकदी बरामद की। वहीं पुलिस कमिश्नर कृष्ण प्रकाश ने भी मौके पर पहुंचकर कार्रवाई की समीक्षा की। यही नहीं उन्होंने पुलिस की इस बड़ी सफलता के लिए पूरी टीम की सराहना भी की।

पुलिस द्वारा मारी गई इस छापेमारी में गिरफ्तार किए गए आरोपियों में सनी उर्फ भूपेंद्र सिंह चरणजीत सिंह गिल (38, निवासी वैभव पैराडाइज, राजवाढेनगर, कालेवाड़ी, पुणे), सुभाष रामकिसन अग्रवाल (57, निवासी नानेकरचाल, रिक्की राजेश खेमचंदानी (36, निवासी बलदेवनगर, डीलक्स थियेटर के पीछे, पिंपरी, पुणे) का नाम शामिल है।

पुलिस ने चार में से तीन आरोपीयों को गिरफ्तार कर लिया गया है। हिरासत में लिए गए लोगों के पास से आठ मोबाइल फोन और सवा 27 लाख रुपये नकद बरामद किए गए हैं। पुलिस उपायुक्त मंचक इप्पार ने कहा, 'एक गुप्त सूचना पर कार्रवाई करते हुए, पुणे जिले के पिंपरी चिंचवाड़ शहर के कालेवाड़ी इलाके में छापेमारी की गई और आरोपियों को रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया। उनके खिलाफ वाकाड में मामला दर्ज किया गया है। जिसमें आईपीसी की धारा 353 और 34, टेलीग्राफ अधिनियम और महाराष्ट्र जुआ रोकथाम अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है।