नई तकनीक! तेज गाड़ियों की रफ्तार से चलता है ये टर्बाइन, 60 मिनट में बन रही 1kW बिजली; आनंद महिंद्रा ने की तारीफ

 

गाड़ियों की रफ्तार से निकलने वाली हवा को ऊर्जा में कंवर्ट करती है ये टर्बाइन

सड़क से गुजरने वाली गाड़ियों की रफ्तार से कैसे ऊर्जा पैदा होगी? यही सोच रहे हैं न? लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि टेस्टिंग दौर में ही इस तकनीक से 1 घंटे में 1 kW की ऊर्जा जनरेट की जा रही है। आनंद महिंद्रा ने भी इसकी तारीफ की है।

नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। इस्तांबुल तकनीकी विश्वविद्यालय द्वारा एक नया और अनोखा प्रयोग किया गया है, जिससे रिन्यूवेबल एनर्जी पैदा की जा सकती है। ये तकनीक पवन चक्की की तरह काम करती है। लेकिन, इसका कॉन्सेप्ट कुछ हटकर है। आपको जानकर हैरानी होगी कि तेज रफ्तार से पास होने वाली गाड़ियों से निकलने वाली हवा से टर्बाइन चलता है और उससे पावर जनरेट होती है। इस नई तकनीक पर आधारित टर्बाइन को टर्किश (तुर्की) कंपनी Devici tech द्वारा इंवेन्ट किया गया है। वर्तमान समय में इसकी टेस्टिंग तुर्की देश की राजधानी इस्तांबुल में चल रही है। ये टर्बाइन 1 घंटे में 1 किलोवाट बिजली पैदा करने में सक्षम है।

दरअसल, इस्तांबुल तकनीकी विश्वविद्यालय द्वारा एक ऐसी तकनीक विकसित की गई है, जिससे रिन्यूवेबल एनर्जी सोर्स प्राप्त किया जा रहा है। इसका कॉन्सेप्ट ट्रैफिक से गुजरने वाली गाड़ियों पर बेस्ड है। आप सोच रहे होंगे कि ये कैसे मुमकिन है, तो वीडियो में आप खुद देख लीजिए।

अगर अभी भी आपको समझ नहीं आया तो चलिए अब आपको एक उदाहरण से समझाते हैं। याद करिए कभी न कभी आपके बगल से कोई तेज रफ्तार गाड़ी गुजरी हो और आपको हवा का तेज थपेड़ा महसूस हुआ हो? जी हां, बस ये तकनीक वैसे ही काम करती है। तेज हवा से ऊर्जा पैदा होती है। तेज रफ्तार से गुजरने वाले वाहनों से निकलने वाली हवा से टर्बाइन चलता है और उससे ऊर्जा उत्पन्न होती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि 1 घंटे में ये टर्बाइन 1 किलोवाट की ऊर्जा प्रड्यूस करती है।

ये खबर तब चर्चा में आई जब महिंद्रा एंड महिंद्रा के मालिक आनंद महिंद्रा ने एक वीडियो शेयर किया। साथ ही उन्होंने लिखा कि इस्तांबुल तकनीकी विश्वविद्यालय द्वारा विकसित की गई इस टेकनोलॉजी का प्रयोग कर भारत पवन ऊर्जा में एक वैश्विक शक्ति बन सकता है, क्योंकि भारत में यातायात का काफी विस्तार हो चुका है। उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर भारत सरकार के सड़क परिवहन और राज्यमार्ग मंत्री नितिन गडकरी को टैग कर पूछा कि क्या हम अपने राजमार्गों पर उनका उपयोग कर एक्सप्लोर कर सकते हैं? इसके बाद से ये ट्वीट सोशल मीडिया पर खूब शेयर किया जा रहा है।