बसों के लेन में चलने को लेकर पहले दिन अफरातफरी, कार वालों ने भी बढ़ाई मुसीबत

 

शुक्रवार को कई बसों के सामने लेन में कार, ई रिक्शा व अन्य वाहनों के आने से परिचालन प्रभावित रहा।

Delhi Dedicated bus lanes दिल्ली की सड़कों पर अब बसों और माल वाहनों को सड़कों पर अपनी ही निर्धारित लेन में चलना होगा। ऐसा नहीं करने पर 10000 रुपये का चालान और छह महीने तक की जेल का प्रावधान किया गया है।

नई दिल्ली, राज्य ब्यूरो। दिल्ली सरकार की ओर से एक अप्रैल से बसों के लिए शुरू की गई लेन व्यवस्था के पहले दिन अफरातफरी का माहौल दिखाई दिया। इस दौरान कई बसों के सामने लेन में कार, ई रिक्शा व अन्य वाहन आ गए जिससे बसों का सुचारु परिचालन प्रभावित रहा। राजधानी दिल्ली की सड़कों पर जाम की स्थिति भी बनी रही। इससे बसों की टिप टाइमिंग में एक से दो घंटे की देरी भी दर्ज की गई। हालांकि, परिवहन विभाग ने बस लेन में नियमानुसार संचालन सुनिश्चित करने के लिए बड़े पैमाने पर प्रवर्तन अभियान शुरू किया गया था। नियमों का उल्लंघन करने पर सात चालकों का चालान किया गया।

परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने आइटीओ चौराहे पर पहुंचकर इस अभियान का जायजा लिया और प्रवर्तन टीम के साथ बातचीत की। पूरा दिन दिल्ली के विभिन्न स्थानों से बस चालकों ने परिचालन में आ रही देरी के संबंध में बात की। इससे सवारियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा। परिवहन विभाग ने बस लेन में आने वाले अन्य वाहनों को लेकर 15 अप्रैल के बाद से जुर्माना लगाने की योजना बनाई है। विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि अभी लोगों को समझाया जा रहा है कि बस लेन में न चलें, मगर 15 अप्रैल के बाद से जुर्माना लगाया जाएगा।

परिवहन विभाग ने दिल्ली यातायात पुलिस और अन्य संबंधित के परामर्श से अभियान के लिए 46 प्रमुख कारिडोर की पहचान की है। इस पहल को कुल तीन चरणों में लागू किया जाएगा। लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) को चयनित कारिडोर पर साइनेज, चेतावनी साइनेज, बस लेन की पेंटिंग, बस बाक्स और अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए गए हैं।

तीन बार चालान होने पर निलंबित होगा लाइसेंस

लेन व्यवस्था का पालन न करने पर पहली बार 10,000 रुपये का चालान है। दूसरी बार इस नियम को तोड़ने पर चालान और अतिरिक्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी। तीसरा चालान होने पर ड्राइविंग लाइसेंस निलंबित या रद कर दिया जाएगा। इसके साथ ही एक महीने का ड्राइ¨वग रिफ्रेशमेंट कोर्स अनिवार्य रूप से करना होगा। चौथी बार नियम के उल्लंघन पर वाहन परमिट रद कर दिया जाएगा।

गौरतलब है कि परिवहन विभाग ने बस लेन में यातायात अनुशासन लागू करने के लिए दो पालियों में प्रवर्तन दल तैनात किए हैं। प्रत्येक प्रवर्तन दल आवंटित सड़क या खंड को कवर करेगा। अभियान को सफल करने के लिए कुल 138 प्रवर्तन दल तैनात किए गए हैं। दिल्ली यातायात पुलिस को भी प्रवर्तन टीमों के परामर्श से अपनी योजना तैयार करने की सलाह दी गई है। इस दौरान मेगाफोन के माध्यम से जागरूक भी किया जा रहा है।