भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर व आरएलडी प्रमुख जयंत चौधरी को उदयपुर के एयरपोर्ट पर पुलिस ने रोका

 

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर व आरएलडी प्रमुख जयंत चौधरी को एयरपोर्ट पर पुलिस ने रोका। फोटो इंटरनेट मीडिया

Rajasthan भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद और आरएलडी प्रमुख जयंत चौधरी को पुलिस ने उदयपुर के महाराणा प्रताप हवाई अड्डे पर रोक लिया। दोनों नेता जितेंद्र मेघवाल हत्याकांड में न्याय की मांग को लेकर उदयपुर से सड़क मार्ग के जरिए पाली जाने वाले थे।

उदयपुर, संवाद सूत्र। राजस्थान में भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद और आरएलडी प्रमुख जयंत चौधरी को पुलिस ने उदयपुर के महाराणा प्रताप हवाई अड्डे पर रोक लिया। दोनों नेता जितेंद्र मेघवाल हत्याकांड में न्याय की मांग को लेकर उदयपुर से सड़क मार्ग के जरिए पाली जाने वाले थे। उनके उदयपुर आने की सूचना पर पुलिस ने दोनों को हवाई अड्डे से बाहर नहीं निकलने दिया। इसके बाद दोनों नेता हवाई अड्डे में धरने पर बैठ गए, जबकि उनके समर्थक बाहर कांग्रेस सरकार और पुलिस की कार्रवाई के विरोध में नारेबाजी करने लगे। इस बीच, भीम आर्मी चीफ ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को ट्वीट किया और उसमें लिखा कि वाह अशोक गहलोत जी वाह! उदयपुर एयरपोर्ट पर हमें रोकने के लिए जितनी पुलिस लगाई है, उतनी अगर सामंतवाद खत्म करने में लगाई जाती तो मूंछ रखने के कारण किसी जितेंद्र मेघवाल की हत्या ना होती। कितनी भी तानाशाही दिखा लो मांगें पूरी हुए बिना हम यहां से हिलने वाला नहीं। यह भीम, जय मंडल। 

कांग्रेस सरकार के खिलाफ नारेबाजी

इधर, एयरपोर्ट में भीम आर्मी चीफ तथा आरएलडी प्रमुख को रोकने की जानकारी इंटरनेट मीडिया पर वायरल हुई तो बड़ी संख्या में उनके समर्थक एयरपोर्ट पहुंच गए। वहां उन्होंने कांग्रेस सरकार और राजस्थान पुलिस की कार्रवाई को लेकर जमकर नारेबाजी की। पुलिस अधिकारी समझाइश कर उन्हें समझाने के प्रयास में जुटी रही। उधर, दोनों नेता एयरपोर्ट पर धरना देकर जम गए हैं। उन्होंने कहा कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं की जाती, वह धरना जारी रखेंगे। उल्लेखनीय है कि एक सप्ताह पहले भी भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर चिकित्सा विभाग में कोविड सहायक के रूप में कार्यरत जितेंद्र मेघवाल को श्रद्धांजलि देने पाली जिले के बारवा गांव पहुंचे थे। जिसकी हत्या की वजह आपसी रंजिश बताया जा रहा है। भीम आर्मी चीफ के वारवां पहुंचने पर वहां बड़ी संख्या में भीड़ एकत्रित हो गई थी। पुलिस की मौजूदगी में चंद्रशेखर आजाद ने जुलूस निकाला तथा पोस्टर और हॉर्डिंग्स फाड़ दिए थे। यही नहीं, भीम आर्मी चीफ ने भड़काऊ भाषण देकर सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने की भी कोशिश की थी।