भाई व मां पर जाली हस्ताक्षर कर नकली वसीयत तैयार करने का आरोप

 



भाई व मां पर जाली हस्ताक्षर कर नकली वसीयत तैयार करने का आरोप लगा है। जागरण आर्काइव

Fake Testament Case ऊना जिले के अम्ब कस्बे के एक व्यक्ति ने कोर्ट के माध्यम से अपने भाई व मां के खिलाफ पिता की मौत के पश्चात उनके जाली हस्ताक्षर करके नकली वसीयत तैयार कर धोखाधड़ी करने का केस दर्ज करवाया है। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

अम्ब।

Fake Testament Case, ऊना जिले के अम्ब कस्बे के एक व्यक्ति ने कोर्ट के माध्यम से अपने भाई व मां के खिलाफ पिता की मौत के पश्चात उनके जाली हस्ताक्षर करके नकली वसीयत तैयार कर धोखाधड़ी करने का केस दर्ज करवाया है। पुलिस ने कोर्ट के आदेश मिलने पर शिकायतकर्ता आरोपित भाई व मां के खिलाफ धोखाधड़ी सहित अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज करके मामले की जांच शुरू कर दी है।

कोर्ट के माध्यम से पुलिस को दी तहरीर में अम्ब निवासी दर्शन ने कहा है कि वह अकेला ही था जो अपने पिता के जीवनकाल में उनकी सेवा करने के साथ उनकी जमीन-जायदाद देखभाल करने के साथ उनके काम में भी मदद करता था। पिता ने उसकी इन्हीं सेवाओं को देखकर 18 दिसंबर, 2015 को अम्ब में उनकी पूरी संपत्ति को पंजीकृत वसीयत के माध्यम से उनके पक्ष में वसीयत कर दी थी। आरोप है कि उसके भाई ने पिता के जीवित रहते कभी उनकी सेवा नहीं की और न ही उनका सम्मान किया, जिसके कारण उन्होंने उसके आरोपित भाई को उनके जीवनकाल में ही उनकी संपत्ति से वंचित कर दिया था। दर्शन ने आरोप लगाया कि आरोपितों ने 10 जून, 2017 को उसके पिता की मौत के बाद लोगों के साथ मिलीभगत करके जाली हस्ताक्षर करके वसीयत तैयार कर ली, जबकि उसके पिता ने उस दिन किसी भी कथित वसीयत पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं क्योंकि उसके पिता ने उसके पक्ष में पहले ही एक पंजीकृत वसीयत कर दी थी।

शिकायतकर्ता का कहना है कि आरोपितों द्वारा तैयार करवाई गई झूठी वसीयत में किए गए हस्ताक्षर उसके मृतक पिता के बैंक खाते में असली हस्ताक्षरों से स्पष्ट रूप से अलग हैं। उसके पिता ने जीवित रहते हुए कभी भी अभियुक्तों के पक्ष में कोई वसीयत नहीं की।

क्या कहते हैं अधिकारी

थाना प्रभारी अम्ब आशीष पठानिया ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि पुलिस ने कोर्ट के आदेश पर इस केस में नामजद किए गए आरोपित लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी सहित अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज करके मामले की जांच शुरू कर दी है।