चित्तौड़गढ़ में मां और बेटे का दिनदहाड़े अपहरण

 

राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में मां और बेटे का दिनदहाड़े अपहरण। फाइल फोटो

Rajasthan मां और बेटे के दिनदहाड़े अपहरण का मामला सामने आया है। घटना राजस्थान के चित्तौड़गढ़ की है। पुलिस ने इस संबंध में महिला के पति की शिकायत पर मामला दर्ज कर मामले की जांच-पड़ताल शुरू कर दी है।

उदयपुर, संवाद सूत्र। राजस्थान में चित्तौड़गढ़ जिले के चंदेरिया क्षेत्र में सोमवार को कार से आए बदमाशों ने तीन साल के एक बालक और उसकी मां का अपहरण कर लिया। पुलिस ने बदमाशों की तलाश में जिले भर में नाकाबंदी कर दी, लेकिन अभी तक उनका पता नहीं चला। पुलिस बदमाशों के मोबाइल लोकेशन के आधार पर उनका पीछा करने में जुटी है। घटना चित्तौड़गढ़ जिले के चंदेरिया थाना क्षेत्र की रोलाहेड़ा रोड स्थित शिव कालोनी की है। यहां अखिलेश रेगर का तीन साल का बेटा कमलेश अपने घर के बाहर खेल रहा था। तभी काले रंग की एक कार से आए बदमाशों ने कमलेश को उठाया और कार में डाल दिया। बच्चे की चीख सुनकर उसकी मां आशा रेगर दौड़कर आई। उसने अपने बच्चे को छुड़ाने की कोशिश की तो अपहरणकर्ताओं ने आशा को भी कार के अंदर धकेला और उसे भी बंधक बनाकर अपने साथ ले गए। इस घटना की जानकारी पड़ोसियों के जरिए पुलिस को लगी तो जिले भर में नाकाबंदी कड़ी कर दी गई।

पति की शिकायत पर पत्नी और बेटे के अपहरण का मामला दर्ज

पुलिस ने अखिलेश रेगर की शिकायत पर पत्नी और बेटे के अपहरण का मामला दर्ज किया है। घटनास्थल पर मिले मोबाइल लोकेशन के आधार पर पुलिस अपहरणकर्ताओं की धरपकड़ के लिए जुटी हुई है। जिले भर में नाकाबंदी कर दी गई और आसपास जिलों की पुलिस को भी सतर्क कर दिया गया है। अखिलेश रेगर ने बताया कि उसने अपहरणकर्ताओं को देखा है और उसने अपनी पत्नी और बच्चे को बचाने के लिए कोशिश की और उनके पीछे दौड़ा, लेकिन उन्हें पकड़ नहीं पाया। बताए हुलिए के आधार पर पुलिस अपराधियों की पहचान करने में जुटी है। पता चला है कि कार अजमेर पासिंग नंबर की है और उसके गुलाबपुरा होते हुए अजमेर की तरफ जाने की जानकारी मिली है। थानाधिकारी कैलाशचंद्र ने बताया कि पुलिस को शक है कि यह घटना पारिवारिक रंजिश से जुड़ा भी हो सकता है। जिसको लेकर पुलिस जांच में जुटी है। कार अजमेर नंबर की है और आशा भी अजमेर जिले की रहने वाली है।