लखनऊ का कौन सा मजबूत पक्ष दिल्ली को कर सकता है परेशान, सहायक कोच वाटसन ने किया खुलासा

 

लखनऊ सुपर जाइंट्स के खिलाड़ी (एपी फोटो)

IPL 2022 शेन वाटसन ने ये भी कहा कि ये राहुल एंड कंपनी के लिए उल्टा भी पड़ सकता है लेकिन साथ ही आपके पास बहुत अधिक गेंदबाजी विकल्प भी नहीं हो सकते। ये काफी मुश्किल हो जाता है कि आप एक साथ सबको कैसे टीम में ले लेंगे।

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। आइपीएल 2022 के 15वें लीग मैच में दिल्ली कैपिटल्स का सामना लखनऊ सुपर जाइंट्स के साथ होगा। इस मुकाबले से पहले दिल्ली टीम के सहायक कोच शेन वाटसन ने लखनऊ सुपर जाइंट्स के एक ऐसे मजबूत पक्ष का जिक्र किया जिससे दिल्ली कैपिटल्स टीम को खासी परेशानी हो सकती है। इसमें कोई शक नहीं है कि लखनऊ टीम के पास आलराउंडर खिलाड़ियों की कोई कमी नहीं है जिससे उनके पास ज्यादा विकल्प होते हैं। इस टीम ने अपने आखिरी लीग मैच में प्लेइंग इलेवन में जेसन होल्डर को शामिल किया था जिसके बाद इनकी गेंदबाजी और बल्लेबाजी दोनों ही और ज्यादा मजबूत हो गई थी।

पिछले मैच में लखनऊ की टीम में जेसन होल्डर, क्रुणाल पांड्या और दीपक हुडा के तौर पर तीन आलराउंडर थे जिसने दिल्ली के खिलाफ भी खेलने की संभावना है तो वहीं दिल्ली की टीम में आलराउंडर की बात करें तो अनुभवी आलराउंडर के तौर पर इस टीम के पास अक्षर पटेल व शार्दुल ठाकुर हैं तो वहीं अगर ललित शर्मा सफल हो जाते हैं तो इस टीम के लिए ये काफी अच्छा होगा। दिल्ली के पास भी आलराउंडर हैं, लेकिन इसके बावजूद एलएसजी का ये पक्ष विरोधी टीम के लिए बड़ा खतरा हो सकता है और इस बात को वाटसन भी मानते हैं।

वाटसन ने हिन्दुस्तान टाइम्स से बात करते हुए कहा कि आलराउंडर का टीम में होना कप्तान के लिए बहुत बड़ा फायदा होता है और इससे कई विकल्प उनके पास होते हैं। अगर कोई मुख्य गेंदबाज उस खास दिन में कुछ अच्छा नहीं कर रहा तो आपके पास विकल्प होता है और आप उसकी भरपाई कर सकते हैं। क्रुणाल पांड्या ने अच्छी गेंदबाजी की है तो वहीं दीपक भी काफी अच्छे रहे हैं। जेसन होल्डर के आने से टीम और मजबूत दिख रही है। इसमें कोई शक नहीं कि आलराउंडर गेंदबाजी विकल्प की भी भूमिका निभाते हैं। 

वाटसन ने ये भी कहा कि ये राहुल एंड कंपनी के लिए उल्टा भी पड़ सकता है, लेकिन साथ ही आपके पास बहुत अधिक गेंदबाजी विकल्प भी नहीं हो सकते। ये काफी मुश्किल हो जाता है कि आप एक साथ सबको कैसे टीम में ले लेंगे। कई सारे विकल्प फायदेमंद हो सकते हैं, लेकिन ये कप्तान के लिए बड़ा सिरदर्द भी हो सकता है। हालांकि इस वक्त उनके पास विकल्पों की कोई कमी नहीं है।