आम आदमी पार्टी के विधायक प्रकाश जारवाल के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी, जानिए क्या है पूरा मामला?

 

प्रकाश जारवाल को अचानक एक बैठक में जाना पड़ा और उनके वकील व्यक्तिगत परेशानी में हैं।

सुनवाई के दौरान कोर्ट में न तो प्रकाश जारवाल उपस्थित हुए और न ही उनकी ओर से कोई वकील। जिसके बाद कोर्ट ने यह आदेश जारी किया। बचाव पक्ष की तरफ से पेश वकील रवि द्राल ने कोर्ट को बताया कि प्रकाश जारवाल को अचानक एक बैठक में जाना पड़ा

नई दिल्ली A.k.Aggarwal । राउज एवेन्यू कोर्ट ने डाक्टर सुसाइड मामले में कोर्ट में पेश नहीं होने पर आम आदमी पार्टी के विधायक प्रकाश जारवाल के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है। स्पेशल जज गीतांजलि गोयल ने 21 अप्रैल को अगली सुनवाई करने का आदेश दिया। सोमवार को सुनवाई के दौरान कोर्ट में न तो प्रकाश जारवाल उपस्थित हुए और न ही उनकी ओर से कोई वकील। जिसके बाद कोर्ट ने यह आदेश जारी किया। बचाव पक्ष की तरफ से पेश वकील रवि द्राल ने कोर्ट को बताया कि प्रकाश जारवाल को अचानक एक बैठक में जाना पड़ा और उनके वकील व्यक्तिगत परेशानी में हैं।

कोर्ट ने कहा कि प्रकाश जारवाल को जाते समय कोर्ट को सूचित करना चाहिए था। आज आठ गवाहों के बयान दर्ज होने थे। सुनवाई के दौरान आठों गवाह कोर्ट में मौजूद थे। जारवाल और उनके वकील के पेश नहीं होने की वजह से किसी भी गवाह का बयान दर्ज नहीं हो सका। उसके बाद कोर्ट ने प्रकाश जारवाल के खिलाफ गैर जमानती वारंट और उनके जमानतदार को नोटिस जारी कर दिया। 21 दिसंबर 2021 को तीन गवाहों विनोद कुमार, शिशुपाल और रेवाधर के अपने बयान दर्ज कराए थे। इन गवाहों से अभियोजन पक्ष की ओर से पेश वकील ने गवाहों से सवाल-जवाब भी किए थे।

बता दें 11 नवंबर 2021 को कोर्ट ने डाक्टर सुसाइड मामले के आरोपियों के खिलाफ आरोप तय किया था। कोर्ट ने हरीश जारवाल को सुसाइड के लिए उकसाने के आरोपों से बरी कर दिया था। जबकि प्रकाश जारवाल और कपिल नागर के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 386, 384, 506 और 120बी के खिलाफ आरोप तय करने का आदेश दिया था। कोर्ट ने आरोपित हरीश जारवाल को धारा 306 और 386 के आरोपों से मुक्त कर दिया जबकि धारा 506 का आरोप तय करने का आदेश दिया था।