उइगरों के उत्पीड़न के खिलाफ व्हाइट हाउस के बाहर विरोध-प्रदर्शन, चीनी नरसंहार के खिलाफ कार्रवाई करने की उठी मांग

 

उइगरों के उत्पीड़न के खिलाफ व्हाइट हाउस के बाहर विरोध-प्रदर्शन (फोटो: एएनआइ)

तुर्किस्तान की निर्वासित सरकार ने चीनी नरसंहार को लेकर अमेरिका समेत दुनिया भर के देशों से चीन के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। तुर्किस्तान के निर्वासित सरकार के प्रधानमंत्री सालेह हृदयार और उपप्रधान मंत्री हाजी महमुत ने अमेरिका से चीन के खिलाफ कार्रवाई करने को लेकर अपील की।

वाशिंगटन, एएनआइ। वाशिंगटन डीसी में व्हाइट हाउस के सामने एक दर्जन से अधिक उइगर समुदाय के लोगों ने प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने अमेरिका से पूर्वी तुर्किस्तान में चीन के नरसंहार के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। पूर्वी तुर्किस्तान के निर्वासित सरकार के प्रधानमंत्री सालेह हृदयार ने कहा कि अमेरिका सहित दुनिया भर की दूसरी सरकारों को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयुक्त मिशेल बाचेलेट की पूर्वी तुर्किस्तान की यात्रा से पहले जांच शुरू करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय पर दबाव डालना चाहिए। इसके अलावा अमेरिकी सरकार को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक मामला दर्ज करना चाहिए।

दरअसल, पूर्वी तुर्किस्तान के निर्वासित सरकार के प्रधानमंत्री सालेह हृदयार ने कहा कि हम अमेरिकी सरकार से पूर्वी तुर्किस्तान और उसके लोगों को एक अधिकृत देश के रूप में मान्यता देने की मांग करते हैं। हम अमेरिकी सरकार और दुनिया भर में उसके सहयोगियों से पूर्वी तुर्किस्तान का उसी तरह समर्थन करने का आग्रह करते हैं। जैसे वे यूक्रेन का समर्थन कर रहे हैं। वहीं, कनाडा के टोरंटो में पूर्वी तुर्किस्तान के निर्वासित सरकार ने पूर्वी तुर्किस्तान यूथ एसोसिएशन के साथ बैरेन नरसंहार के मौके पर एक मार्च का आयोजन किया। पूर्वी तुर्किस्तान के निर्वासित सरकार के उपप्रधान मंत्री हाजी महमुत ने कहा हम कनाडा से अपने संधि दायित्वों को बनाए रखने और पूर्वी तुर्किस्तान में चीन के चल रहे नरसंहार के खिलाफ कार्रवाई करने का आग्रह करते हैं।

वहीं, इस्तांबुल में पूर्वी तुर्किस्तान में चल रहे चीन के नरसंहार के खिलाफ चुप रहने के लिए इस्लामिक सहयोग संगठन (OIC) की निंदा की। उन्होंने तुर्की से पूर्वी तुर्किस्तान में चीन के नरसंहार के खिलाफ कार्रवाई करने का आग्रह किया। आपको बता दें कि पूर्वी तुर्किस्तान की निर्वासित सरकार अप्रैल 1990 की बैरेन क्रांति के दौरान मारे गए सभी लोगों को याद करती है। पूर्वी तुर्किस्तान के इतिहास में इसी दिन बैरेन क्रांति हुई थी। 5 अप्रैल 1990 को पूर्वी तुर्किस्तान के एक्टो काउंटी में बैरेन टाउनशिप और आसपास के क्षेत्रों के लोगों ने आपरेशन और नरसंहार को सहन करने में असमर्थ होने के कारण, चीनी कब्जे वाले बलों के खिलाफ विद्रोह कर दिया था।