मूंगफली कारोबारी की हत्या मामले में तीन बदमाश गिरफ्तार, तीन लाख की सुपारी देकर करवाया था मर्डर

 

पुलिस ने हत्या करने वाले तीन बदमाशों को किया गिरफ्तार।

मुख्तार के दो भाई जावेद और आरिफ ने तीन लाख रुपये की सुपारी देकर भूरे खान की हत्या करवा दी। पुलिस ने बदमाशों के पास से सुपारी के दस हजार रुपये वारदात में इस्तेमाल किया गया पेपर कटर और अन्य सामान बरामद किया है।

नई दिल्ली, संवाददाता। वेलकम इलाके में 28 मार्च को घर में घुसकर हुई मूंगफली कारोबारी भूरे खान की हत्या की गुत्थी को पुलिस ने सुलझा लिया है। पुलिस ने सुपारी लेकर हत्या करने वाले तीन बदमाशों को गिरफ्तार किया है। बदमाशों की पहचान शिव विहार निवासी नितेश, मोनू और महालक्ष्मी एनक्लेव निवासी अर्जुन के रूप में हुई है। दरअसल वर्ष 2020 में भूरे खान के गांव के रहने वाले मुख्तार की हत्या हुई थी, उसके परिवार को शक था कि भूरे ने उसकी हत्या करवाई है।

मुख्तार के दो भाई जावेद और आरिफ ने तीन लाख रुपये की सुपारी देकर भूरे खान की हत्या करवा दी। पुलिस ने बदमाशों के पास से सुपारी के दस हजार रुपये, वारदात में इस्तेमाल किया गया पेपर कटर और अन्य सामान बरामद किया है। जिला पुलिस उपायुक्त संजय कुमार सेन ने बताया कि छज्जूपुर निवासी मूंगफली कारोबारी भूरे खान की 28 मार्च को घर में हत्या हुई थी।

पुलिस को जांच में पता चला तीन नकाबपोश बदमाश ग्राहक बनकर घर में घुसे थे और किसी धारदार हथियार से हमला कर हत्या की थी। एसीपी भजनपुरा ए वेंकटेश के नेतृत्व में टीम बनाई गई है। पुलिस ने दो सौ से अधिक सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली, लेकिन उसमें कुछ हाथ नहीं लगा। इसके बाद पुलिस को सीडीआर के जरिये तीन संदिग्धों के नंबर मिले, उन नंबरों की जांच करते हुए पुलिस महालक्ष्मी एनक्लेव पहुंची और वारदात में शामिल तीनों बदमाशों को दबोच लिया।

पूछताछ में आरोपी नितेश ने पुलिस को बताया कि भूरे खान और मूंगफली के कारोबार में उसके प्रतिद्वंदी मुख्तार उत्तर प्रदेश के बदायूं स्थित बगरैन गांव के रहने वाले थे। दोनों परिवार के बीच रंजिश थी, वर्ष 2020 में मुख्तार की किसी ने हत्या कर दी।

मुख्तार के परिवार को लगता था भूरे खान ने उसकी हत्या करवाई है। मुख्तार के भाई जावेद और आरिफ ने अपने भाई की हत्या का बदला लेने के लिए अर्जुन को तीन लाख रुपये की सुपारी दी, एडवांस के रूप में 20 हजार रुपये भी दिए। अर्जुन ने अपने साथियों के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया।