बिजली के तारों से बस में फैला करंट, छत पर सवारी करते आठ लोग झुलसे, तीन की मौत

 

Electric Current in Bus: बिजली के तारों से बस में फैला करंट, छत पर सवारी करते आठ लोग झुलसे,

जिस स्थान से बस गुजर रही थी वहीं सड़क की ऊंचाई बढ़ाने का काम चल रहा है। ऐसे में ऊपर से गुजरने वाले तार थोड़े नीचे हो गए थे। वहां से निकलते समय बस की छत पर बैठे यात्री बिजली के तारों के संपर्क में आ गए।

जोधपुर, संवादसूत्र । राजस्थान के जोधपुर संभाग के सरहदी जिले जैसलमेर में एक निजी बस की छत पर यात्रा कर रहे 8 लोग बिजली के तारों की चपेट में आने से झुलस गए। जिसमें से 3 लोगों की मौत हो गई है। वही, बांकी लोग बुरी तरह झुलसे हैं जिनका की जैसलमेर के अस्पताल में उपचार जारी है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस हादसे पर दुख जताया है।

मिली जानकारी के अनुसार हादसा राजस्थान के जैसलमेर से 15 किलोमीटर दूर सदर थाना इलाके में सुबह करीब 10 बजे पोलजी की डेयरी पास हुआ। हादसे के शिकार हुए लोग संत सदाराम के मेले में शामिल होकर वापस लौट रहे थे। इस दौरान ये हादसा हो गया। हादसे के बाद घटनास्थल पर बड़ी संख्या में ग्रामीण एकत्र हो गये। सूचना मिलने पर पुलिस व प्रशासन के लोग भी मौके पर पहुंच कर घायलों को अस्पताल में भर्ती करवाया।मालूम हो कि घायलों में एक कि हालत गंभीर बताई जा रही है। पुलिस के अनुसार इलाके के खींया और खुईयाला गांव के ग्रामीण निजी बस किराए पर लेकर लोक देवता संत सदाराम के मेले में गए थे, वहां से वापस आते समय यह हादसा हो गया। सूचना पर पुलिस और ग्रामीण मौके पर दौड़े और हालात को संभाला।

दरअसल जिस स्थान से बस गुजर रही थी, वहीं सड़क की ऊंचाई बढ़ाने का काम चल रहा है। ऐसे में ऊपर से गुजरने वाले तार थोड़े नीचे हो गए थे। बस के अंदर तो यात्री बैठे ही थे, इसके अलावा श्रद्धालु छत पर बैठे थे। वहां से निकलते समय बस की छत पर बैठे यात्री बिजली के तारों के संपर्क में आ गए। जैसे ही वह करंट की चपेट में आया, करंट पूरी बस में फैल गया, लेकिन चालक ने मुस्तैदी से बस को आगे बढ़ाया, जिससे करंट कुछ देर ही में रूक गया, लेकिन इतनी देर में ही 8 लोग करंट की चपेट में आकर बुरी तरह जल चुके थे।

घटना के बाद कलेक्टर प्रतिभा सिंह, पुलिस अधीक्षक भंवरसिंह नाथावत और विधायक रूपाराम धनदेव भी अस्पताल पहुंचे और हताहतों की जानकारी ली।