क्या है COVID-19 XE वेरिएंट का लक्षण... लोगों के लिए यह कितना खतरानाक साबित होगा... जानिए पूरा विवरण

 

COVID-19 XE VARIANT को लेकर झारखंड में भी इस समय खूब चर्चा हो रही है।

COVID-19 XE VARIANT को लेकर झारखंड में भी इस समय खूब चर्चा हो रही है। त्योहारी सीजन में यहां लोग संक्रमण की आशंका से डरे हुए हैं। हर कोई इस नए वेरिएंट के बारे में नई नई जानकारी के लिए बेताब नजर आ रहा है।

रांची, डिजिटल डेस्क। COVID-19 XE VARIANT SYMPTOMS झारखंड हो या देश का कोई भी राज्य, इस समय हर जगह कोरोना के नए वेरिएंट की ही चर्चा चल रही है। हर कोई इस नए वेरिएंट के बारे में जानने को उत्सुक नजर आ रहा है। वैसे तो अभी इसने झारखंड में दस्तक नहीं दिया है, लेकिन यहां भी इससे हर कोई डरा-सहमा नजर आ रहा है। विज्ञानी इससे निपटने की तैयारी में जुट गए हैं। लोगों को लगातार संक्रमण से बचाव के लिए सजग रहने को कहा जा रहा है। इस समय भले ही झारखंड में कोरोना के मामले कम हैं, सबकुछ खुल चुका है और जनजीवन पूरी तरह से सामान्य है, लेकिन भविष्य की चिंता सभी को सता रही है।

कोरोना के नए वेरिएंट का नाम है COVID-19 XE, इसे COVID-19 XE वेरिएंट कहा जा रहा है। डाक्टरों का कहना है कि यह बहुत तेजी से फैलने वाला वेरिएंट है। देखते ही देखते यह बड़ी आबादी को अपनी चपेट में ले लेता है। जो लोग इस वेरिएंट की जद में होते हैं उनमें बुखार, गले में खराश, खांसी, सर्दी, त्वचा में जलन और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल की समस्या नजर आने लगती है। अगर इस तरह के लक्षण आप में नजर आ रहे हों तो अलर्ट होने की जरूरत है। सावधानी बरतने की जरूरत है।

COVID-19 XE वेरिएंट की चपेट में आने वाले लोगों में कई और लक्षण भी नजर आते हैं। ऐसे लोग थकान अधिक महसूस करते हैं। उन्हें चक्कर आता है। सिरदर्द की समस्या बढ़ जाती है। लोग गले में खराश महसूस करते हैं। ऐसे लोगों की मांसपेशियों में दर्द काफी होता है। इतना ही नहीं उन्हें बुखार भी आने लगाता है। ऐसे लोगों को दूसरे लोगों के संपर्क में आने से बचना चाहिए। खुद को अलग-थलग कर लेना चाहिए।

डाक्टरों की मानें तो गंभीर बीमारियों से जूझ रहे लोगों को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। गंभीर रोगियों में हृदय रोग बढ़ सकता है। धड़कन भी बढ़ सकती है। कई बार यह वायरस तंत्रिका रोगों का कारण भी बन सकता है। नया वेरिएंट होने के कारण यह तेजी से लोगों को संक्रमण की चपेट में लेने के लिए जाना जाता है।

COVID-19 XE वेरिएंट Omicron की BA.1 और BA.2 किस्मों से बना है। कोरोना की दूसरी लहर में जब Omicron का दौर था,तब उसके वेरिएंट BA.1 और BA.2 काफी चर्चा में आए थे। BA.1 ने ज्यादा से ज्यादा लोगों को प्रभावित किया, अपनी चपेट में लिया था। वहीं, BA.2 कोविड-19 की तीसरी लहर के दौरान चर्चा में आया था। डाक्टरों की मानें तो देश में कुछ लोगों को BA.3 का भी संक्रमण हुआ था, लेकिन इनकी संख्या बहुत कम थी।BA.2 को ज्यादा संक्रामक नहीं माना गया है।

मालूम हो कि झारखंड सरकार ने पूरी तरह से इस समय लाकडाउन खत्म कर दिया है। झारखंड के सभी जिलों में सारे कामकाज चल रहे हैं। इस बीच शादी का मौसम भी है और त्योहार का भी। ऐसे में बाजार आदि में खूब भीड़ हो रही है। लोग एक जगह एकत्र होकर पर्व त्योहार और समारोह भी मना रहे हैं। इससे पुन: कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। यहां एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशनों और बस पड़ावों पर भी कोरोना की जांच नहीं हो रही है। कई जिलों में तो सरकार ने कोरोना जांच और टीकाकरण केंद्र तक बंद कर दिया है। चंद केंद्र ही जहां-तहां चल रहे हैं।