मीटिंग में चल रही थी कंपनी को नंबर-1 बनाने की बात, मौजूद कर्मचारियों ने बताई आपबीती

 

Mundka Fire: जानिए कैसा था हादसे के तुरंत बाद का मंजर, पीड़ित महिलाओं ने बयां किया दर्द

Delhi fire update दिल्ली के मुंडका इलाके में स्थित एक व्यवसायिक इमारत में आग लगने से 27 लोगों की मौत हो गई। वहीं 29 लोग अब तक लापता बताए जा रहे हैं। इस भयावह अग्निकांड में कई परिवार तबाह हो गए।

नई दिल्ली, डिजिटल डेस्क। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के मुंडका इलाके में स्थित चार मंजिला व्यवसायिक इमारत में शुक्रवार शाम भीषण आग लग गई। इस हादसे में 27 लोगों की जलकर मौत हो गई, जबकि एक दर्जन लोग झुलस गए। वहीं 29 लोग अभी तक लापता बताए जा रहे हैं। इनमें 24 महिलाएं और 5 पुरुष शामिल हैं। अपने स्वजनों को खोजने शनिवार को रोते बिलखते पीड़ित परिवार दिल्ली के संजय गांधी अस्पताल पहुंचे।

jagran

वहीं कुछ महिला कर्मचारियों ने बताया कि आग लगने के बाद मौके पर अफरा तफरी मच गई थी। इमारत से रस्सी के सहारे नीचे उतरी लड़कियों और महिलाओं ने आरोप लगाया है कि उन्हें कंपनी वाले शीशे नहीं तोड़ने दे रहे थे। हादसे के समय मीटिंग चल रही थी, जिसमें कंपनी को नंबर वन बनाने की बात कही जा रही थी। मीटिंग के दौरान बिजली गुल होने पर हमें आग लगने की घटना का पता चला।

jagran

शुक्रवार को हादसे के वक्त इमारत में मौजूद रहीं संगीता उर्फ पूजा ने उस खौफनाक मंजर के बारे में जानकारी दी। पूजा ने बताया कि वह आग लगने के समय इमारत थी। आग फैलती देख उन्होंने इमारत की दूसरी मंजिल से कूदकर अपनी जान बचाई। लेकिन इस दौरान उनकी भांजी नहीं कूद पाई। अब उनकी तलाश के लिए पूजा संजय गांधी अस्पताल पहुंची हैं।

jagran

ये रानी खेड़ा निवासी मंजू हैं इनका 25 वर्षीय बेटा विशाल हादसे के बाद से लापता है। आग लगने के दौरान विशाल इमारत में मौजूद था। महिला का कहना है कि कोई यह बता दे कि उनका बेटा जिंदा है या मर गया। महिला अपने बेटे की तलाश के लिए संजय गांधी अस्पताल में इधर से उधर चक्कर लगा रही है।

jagran

सुनीता उत्तर प्रदेश के फतेहपुर की रहने वाली हैं। यहां पर मुंडका की कच्ची सड़क के पास रहती हैं। आग लगने की घटना के बाद से उनकी 20 वर्षीय बेटी सोनम लापता है। उनका कहना है कि हादसे के वक्त उनकी बेटी भी इमारत में मौजूद थी।

jagran

संजय गांधी अस्पताल के बाहर दिल्ली के मुंडका में हुए भीषण अग्निकांड में घायल बिमला ने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में घटना के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि हम सब एक मीटिंग में बैठे थे। अचानक बिजली चली गई तो किसी ने कहा कि धुएं का गुबार उठ रहा है। इसके बाद मौके पर अफरा-तफरी मच गई, खिड़कियां तोड़ी गईं और नीचे उतरने के लिए लोगों ने ऊपर रस्सियां फेंकी।

jagran

संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल से डिस्चार्ज हुई महिला ने बताया कि घटना के वक्त हम मीटिंग में बैठे थे, पता नहीं कब आग लग गई। बाहर निकलने का कोई रास्ता नहीं था। केवल एक ही निकास था जहां आग लग चुकी थी। हम तीसरी मंजिल पर थे। यहां करीब 250-300 लोग मौजूद थ

े।