क्रास फायरिंग में नागरिक की मौत की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश

Author: Vikas AbrolPublish Date: Mon, 16 May 2022 03:12 PM (IST)Updated Date: Mon, 16 May 2022 03:12 PM (IST)
मामले की गंभीरता को देख जिलाधिकारी शोपियां ने मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए।

यह घटना रविवार दोपहर को करीब डेढ़ बजे की है। उस समय जब केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और पुलिस की संयुक्त पैट्रोलिंग टीम गश्त पर थी। लित्तर पुलवामा और तुर्कवगम शोपियां को जोड़ने वाले पुल के पास सुरक्षाबलों पर ताबड़तोड़ गोलीबारी की गई।

जम्मू, राज्य ब्यूरो। दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले के तुर्कवंगाम में गत रविवार को आतंकियों ने सुरक्षाबलों के गश्ती दल पर हमला किया। दोनों तरफ से हुई गोलीबारी में एक आम नागरिक की चपेट में आकर मौत हो गई। मौका पाकर आतंकी भी वहां से भाग निकले। सुरक्षाबल आतंंकियों की तलाश में जुटे हैं। इसी बीच आम नागरिक की मौत पर शोपियां में लोगों का गुस्सा फूटा। उन्होंने मामले की जांच करवाने के निर्देश दिए। इसमें राजनीतिक दलों के नेता भी कूद गए। मामले की गंभीरता को देख जिलाधिकारी शोपियां ने मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए।

Ads by Jagran.TV

यह घटना रविवार दोपहर को करीब डेढ़ बजे की है। उस समय जब केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और पुलिस की संयुक्त पैट्रोलिंग टीम गश्त पर थी। लित्तर पुलवामा और तुर्कवगम शोपियां को जोड़ने वाले पुल के पास सुरक्षाबलों पर ताबड़तोड़ गोलीबारी की गई। सुरक्षित जगहों में जाकर सुरक्षाबलों ने भी मुंहतोड़ जवाब दिया। दोनों तरफ से काफी देर तक गोलीबारी होती रही। इस दौरान वहां से गुजर रहा युवक शोएब अली गनई पुत्र गुलाम मोहम्मद निवासी तुर्कवंगम गोलीबारी में फंस गया। वह गंभीर रूप से घायल हो गया। सुरक्षाबलों ने उसे तुरंत जिला अस्पताल पुलवामा पहुंचाया। इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। आतंकियों को पकड़ने के लिए बड़े पैमाने पर अभियान चलाया गया। सुरक्षाबलों ने क्षेत्र को घेरा, लेकिन आतंकी वहां से भाग निकलने में कामयाब रहे।

वहीं, नागरिक की मौत की खबर सुनते ही शोपियां में स्थानीय लोग नारेबाजी करते हुए सड़क पर एकत्रित होकर प्रदर्शन करने लगे। उन्होंने इस मामले की जांच करवाने की मांग की। उनका आरोप था कि गनई की हत्या की गई है। मार्क्सवादी नेता मोहम्मद यूसुफ तारीगामी भी विवाद में कूद गए। उन्होंने भी इस मामले की जांच करवाने की मांग की। उनका कहना था कि सरकार के बयान से स्थानीय लोग संतुष्ट नहीं है। उधर मौके पर मौजूद सुरक्ष बलों ने गुस्साए लोगों को समझा कर शांत किया। मामले की नजाकत को देखते हुए जिलाधिकारी शोपियां ने घटना की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं। यहां जारी एक आधिकारिक बयान के अनुसार, अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट, शोपियां मजिस्ट्रेट जांच करेंगे। जांच एक निश्चित समय सीमा में पूरी की जाएगी और कानून के तहत उचित कार्रवाई की जाएगी।