बंदरों का आतंक, छतों पर जाने से डरते हैं मालीवाड़ा एवं दरीबा कलां के लोग

 

चांदनी चौक के मालीवाड़ा में घर की छत पर रखी पानी की टंकी में डुबकी लगाते बंदर। फाइल फोटो।

बंदर छतों पर रखी पानी की टंकियों के ढक्कन तोड़ रहे हैं और उसके अंदर डुबकी भी लगा रहे हैं। इनके झुंड लोगों के सामान को भी नुकसान पहुंचा रहे हैं। लोग भगाते हैं तो काटने के लिए दौड़ते हैं।

नई दिल्ली,  संवाददाता। चांदनी चौक के मालीवाड़ा, नई सड़क, दरीबा कलां समेत इसके आसपास के इलाकों में बंदरों का आतंक है। इन इलाकों के लोग डर के कारण छत पर जाने से डरते हैं। बंदर छतों पर रखी पानी की टंकियों के ढक्कन तोड़ रहे हैं और उसके अंदर डुबकी भी लगा रहे हैं। इनके झुंड लोगों के सामान को भी नुकसान पहुंचा रहे हैं। स्थानीय लोगों ने बताया कि अगर कोई हिम्मत करके इन्हें भगाने की कोशिश करता है तो ये काटने के लिए दौड़ पड़ते हैं।

बंदरों के आने से होता है नुकसान ऐसे समझें

  • चांदनी चौक स्थित घरों की छतों पर झुंड के रूप में रहते हैं बंदर
  • कोई छत पर आता है तो कर देते हैं हमला
  • छतों पर रखी पानी की टंकियों के तोड़ देते हैं ढक्कन
  • फैला देते हैं सामान
  • शिकायत के बावजूद अधिकारी नहीं देते हैं ध्यान

कई बार की गई है शिकायत

चांदनी चौक रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन (आरडब्ल्यूए) के महासचिव अशोक जैन ने बताया कि कुछ वर्षों से इलाके में बंदरों की संख्या बढ़ गई है। इससे सबसे ज्यादा बच्चे, बुजुर्गों के साथ दुर्घटना होने का अधिक खतरा बना रहता है। इसको लेकर कई बार शिकायत भी गई है, लेकिन इस तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

लोगों की परेशानी देख कर की जाएगी कार्रवाई

लोगों की परेशानी को देखते हुए इस मामले पर कार्रवाई की जाएगी। क्षेत्र के लोगों को किसी तरह की परेशानी न हो इसके लिए कार्य किया जाएगा।

रवि कप्तान, निगम पार्षद, चांदनी चौक